कोरोना संक्रमण बढ़ने पर प्रतीकात्मक होगा कुम्भ स्नान-स्वामी हरिगिरि

 


हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्पष्ट किया है कि हरिद्वार कुंभ 2021 के दौरान अगर कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता है तो अखाड़ा परिषद बड़ी जनहानि को रोकने के लिए शाही स्नान और पेशवाई नहीं निकालेगा। शुक्रवार को निरंजनी अखाड़े में पत्रकारों से बातचीत में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री  श्री महंत हरि गिरि ने कहा कि इस संदर्भ में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद राज्य सरकार और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को लिखित में अपनी मंशा स्पष्ट कर चुका है। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के तत्वावधान में हर अखाड़े से केवल दो संत महात्मा ही कुंभ स्नान कर इसे प्रतीकात्मक रूप से संपन्न करेंगे। उन्होंने कहा कि धार्मिक आस्था बड़ी चीज है पर उससे भी बड़ा है आम जीवन। किसी भी धार्मिक आस्था को पूरा करने के लिए आम जन जीवन को खतरे में नहीं डाला जा सकता है। इसलिए अखाड़ा परिषद ने सभी तेरह अखाड़ों से बातचीत कर यह सर्व मान्य हल निकाला है और इससे राज्य सरकार और मेला अधिष्ठान को लिखित रूप में अवगत करा दिया है। बताया कि इस विषय में 15 फरवरी 2021 से लेकर 20 फरवरी 2021 के मध्य अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की राज्य सरकार और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से होने वाली बैठक में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।