स्वर्ण ज्योति महोत्सव में विभिन्न क्षेत्रों के 50 विभूतियों को किया गया सम्मानित

 

हरिद्वार। ज्योर्तिमठ व द्वारका पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के ज्योतिषपीठ पर आसन्न होने के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में देशभर में 50 कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसी क्रम में हरिद्वार के कनखल स्थित शंकराचार्य मठ में रविवार को पहले स्वर्ण ज्योति महोत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में समाज सेवा, चिकित्सा, धार्मिक, प्रशासनिक व पत्रकारिता से जुड़ी 50 विभूतियों को सम्मानित किया गया। इस दौरान मठ में ज्योतिर्मठ की दिव्य ज्योति भी प्रज्वलित की गई जो निरंतर प्रकाशमान रहेगी। शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती महाराज ने बताया कि ज्योतिषपीठ पर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में देश भर में 2 साल तक स्वर्ण ज्योति महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। जिसकी शुरुआत धर्म नगरी हरिद्वार से की गई है। 2 साल में देश के 50 स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। कार्यक्रम के दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज ने कार्यक्रम को संबोधित कर अपना आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम के दौरान अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती महाराज ने हरिद्वार में होने जा रहे कुंभ मेले के आयोजन को लेकर सरकार की नीयत पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि सरकार कोरोना का भय दिखा कर कुंभ का स्वरूप हल्का करना चाहती है। जब कोरोना काल मे चुनावी रैलियां हो सकती है। रोड़ शो हो सकते हैं। चुनाव संपन्न कराए जा सकते हैं, तो 12 वर्ष में एक बार पड़ने वाले कुंभ का भव्य आयोजन क्यों नही हो सकता। कार्यक्रम में पहुंचे मेला अधिकारी दीपक रावत से स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि कुंभ मेले के दौरान जो अखाड़े, धार्मिक संस्थाएं या स्वमसेवी संस्थाएं हरिद्वार आती हैं। उनसे मेला प्रशासन एक संदेश अवश्य लिखवाए और उन संदेशो को मेले के दौरान पत्रिका के रूप में प्रकाशित करे। ताकि कुंभ पर्व का सही संदेश देश और दुनिया में जा सके। अपने संबोधन में मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच विपरीत हालात में हो रहे कुंभ मेले को संपन्न कराने के लिए सभी व्यवस्थाएं की जा रही हैं। संत महापुरूषों के आशीर्वाद से कुंभ मेला सकुशल संपन्न होगा। उन्होंने अखाड़ों व धार्मिक संस्थाओं से संदेश लिखवाने के सुझाव पर सहमति जताते हुए कहा कि सभी से संदेश लेकर उन्हें प्रकाशित किया जाएगा। कार्यक्रम को जयराम पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने भी संबोधित किया। समारोह में पत्रकारिता के क्षेत्र में 50 वर्ष पूर्ण करने वाले वरिष्ठ पत्रकार कौशल सिखोला, रतनमणी डोभाल, प्रैस क्लब अध्यक्ष दीपक नोटियाल, महामंत्री धमेंद्र चैधरी, सामाजिक सेवा के क्षेत्र में पंडित अधीर कौशिक, शिखर पालीवाल, गंगा सभा महामंत्री तन्मय वशिष्ठ, ज्ञानेंद्र पंडित, स्वामी रविदेव शास्त्री, पूर्व पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह, आरटीआई एक्टिविस्ट रमेशचंद शर्मा, विश्वास सक्सेना आदि सहित विभिन्न क्षेत्रों के पचास लोगों को सम्मानित किया गया।