किसान आंदोलन के समर्थन में सीटू व किसान सभा का धरना

 

हरिद्वार। सीटू एवं किसान सभा के कार्यकर्ताओं ने किसान आन्दोलन के सहयोग एवं समर्थन मे नगर मजिस्ट्रेट कार्यालय के समक्ष धरना दिया। धरना स्थल पर सीटू के जिला अध्यक्ष पी. डी.बलोनी की अध्यक्षता तथा किसान सभा के जिला संयोजक आर.सी.धीमान के संचालन में हुई सभा के दौरान किसान आन्दोलन मे शहीद हुये किसानों दो मिनट का मौन रख कर श्रद्धांजलि दी गयी तथा प्रत्येक शहीद किसान के परिवार को 50 लाख मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की गयी। सभा को संबोधित करते हुए पीडी बलूनी ने कहा कि केंद्र सरकार ने बडे उद्योगपतीयों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से बिना चर्चा के तीन किसान कानून को लागू कर दिया है। जिसके विरोध मे देश भर के किसान आन्दोलनरत है। किसान आन्दोलन का समर्थन करते उन्होंने कहा कि सरकार नये किसान कानूनो को निरस्त करे तथा किसान कानून का नया मसौदा तैयार करे। कानून मे न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारन्टी दी जाए। अनाज खरीद करने वाले संस्थानो व्यक्तियों का पंजीकरण अनिवार्य करते हुये सरकारी व गैरसरकारी मण्डी या संस्थानों पर समान टैक्स प्रणाली लागू की जाय। जिससे मण्डी व निजी संस्थानों मे प्रतिस्पर्धा बनी रही। जिससे सरकारी मण्डी बन्द होने के खतरे को टाला जा सके। आरसी धीमान ने कहा कि आवश्यक वस्तु अधिनियम को पूर्व की भांति यथावत रखा जाए। जिससे खाद्य वस्तुओं की जमाखोरी, काला बजारी पर रोक लगाई जा सके। ठेका खेती पर उठने वाले विवाद को न्यायलय में दायर करने का अधिकार किसानों को दिया जाए। कृषि कानूनो के विरोध मे चल रहे आन्दोलन मे शामिल किसानों व नागरिको पर दर्ज मुकदमे वापस लिये जायंे तथा आन्दोलन को कुचलने के सरकारी प्रयास पर रोक लगायी जाए। इस दौरान श्रम कानूनो में किये गये संसोधनों को वापस लेने तथा न्यूनतम वेतन 21हजार रुपये किये जाने की मांग भी की गयी। सभा के पश्चात मांगों के संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भी प्रेषित किया गया। धरना देने वालों कामरेड आरपी जखमोला, इमरत सिंह, एम.पी.जखमोला, सोनू त्यागी, अम्बरीश कुमार, लालदीन, अशोक कुमार, संजीव कुमार, रामपाल, बीरबल, उदयबीर, इमरत सिंह, राजकुमार, देवेन्द्र, आशीष, मोनू, दिनेश, जयपाल, योगेश, राजीव, मनोज, सुशील, कदम सिंह आदि सहित दर्जनों कार्यकर्ता शामिल रहे। 


Comments