केन्द्र सरकार की एसओपी पर अखाड़ा परिषद में चर्चा जारी

 हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा है कि कुंभ को लेकर अखाड़ों की रायशुमारी जारी है। उन्होंने कहा कि इस बात को लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है कि कुंभ में कथा या प्रवचन नहीं होंगे। श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी में प्रैस को जारी बयान में उन्होंने स्पष्ट किया कि केंद्र सरकार की गाइडलाइन में कथा व प्रवचन पर रोक नहीं है। केवल इनके लिए टेंट और पंडाल लगाने रोक है। उन्होंने बताया कि अखाड़ा परिषद और अखाड़े इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि कुंभ को लेकर केंद्र सरकार की गाइडलाइन से उन्हें कोई दिक्कत या परेशानी तो नहीं या फिर उनकी अपनी जरूरतों को पूरा करने में अन्य किसी को दिक्कत या परेशानी तो नहीं है। इस बात पर भी मंथन किया जा रहा है कि कुंभ में देश- विदेश से लाखों करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचेंगे। जिससे कोरोना या इस जैसी किसी अन्य बीमारी के संक्रमण के फैलने का खतरा तो नहीं है। उन्होंने बताया कि इन सभी बातों पर विचार करने के बाद ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अपना कोई अंतिम फैसला लेगी। श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने उम्मीद जताई कि अब तक हरिद्वार कुंभ को लेकर सरकार ने जो भी दिशा निर्देश जारी किए हैं। उसे अखाड़ों और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्वीकार किया है। इसलिए यदि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अपनी कोई बात रखती है तो सरकार उसे स्वीकार करेगी। श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि जनता भ्रम में ना रहे कुंभ तो होकर ही रहेगा, शाही स्नान भी होंगे और पेशवाई भी निकलेगी। हम केवल इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि उसका स्वरूप क्या होगा और सरकारी गाइडलाइन से कोई दिक्कत या परेशानी तो नहीं हैं। इसका फैसला अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की आगामी बैठक में लिया जाएगा। इस दौरान श्रीमहंत रविंद्रपुरी, श्रीमहंत रामरतन गिरी, महंत दिनेश गिरी, महंत राधे गिरी, श्रीमहंत ओमकार गिरी, महंत नरेश गिरि, महंत नीलकंठ गिरी, दिगंबर गंगापुरी आदि मौजूद रहे।


Comments