जिलाधिकारी ने वनाग्नि प्रबंधन योजना को दी स्वीकृति,जनपद में कोरोना नियंत्रण में

 

हरिद्वार। जिलाधिकारी सी रविशंकर ने शनिवार को वनाग्नि प्रबंधन योजना को विचार विमर्श के बाद स्वीकृति प्रदान की। डीएफओ नीरज शर्मा ने अग्नि दुर्घटनाओं का विगत वर्षो का तुलनात्मक विवरण जिलाधिकारी समक्ष प्रस्तुत किया। उन्होनंे कहा कि पिछले वर्ष वन विभाग क्षेत्रों में अग्नि दुर्घटनायें शून्य रहने तथा रिजर्व वन क्षेत्र में कम घटनायें होने से यह वर्ष को अग्नि दुर्घटनाओं की दृष्टि से संवेदनशील माना जा रहा है। जिलाधिकारी ने संवेदनशीन क्षेत्रों में दुर्घटनाओं के कारण, और वनाग्नि की स्थिति से निपटने के लिए वन, आपदा प्रबंधन, वन्य जन्तु प्रतिपालक राजाजी टाइगर रिजर्व, अग्नि शमन विभागों की सुरक्षा तैयारियों की समीक्षा की। उन्हेांने सम्बंधित विभागों केा आपसी समन्वय और सूचना तंत्र को प्रभावी रूप् से सक्रिय बनाने के लिए विभागों के कंट्रोल रूम को एक दूसरे कनेक्टेड बनाये जाने को कहा, जिससे किसी भी कंट्रोल रूम को प्राप्त वनाग्नि की सूचना तत्काल वन व अन्य विभागों तक पहुंचे और रिस्पाॅंस टाइम व नुकसान को कम किया जा सके। जिलाधिकारी ने लोगों के बीच वनाग्नि से वन्य जीवों और पर्यावरण को बचाने के लिए जनसहभागिता को व्यापक ढंग से बढ़ावा देने के निर्देश दियें। उन्होंने वन गुर्जर बस्तियों, ग्राम सभाओं, वन्य क्षेत्र के आबादी क्षेत्रों में निवास करने वाले लोगों को जागरूक व प्रशिक्षित किये जाने को कहा। स्थानीय लोगों को जागरूक किया जाये कि घटना होने पर वन विभाग व आपदा प्रबंधन विभाग को तत्काल सूचित करना है व घटना के समय स्थानीय व्यक्ति को क्या उपाय अपनाने हैं। डीएफओ ने फरवरी माह की शुरूआत में ही स्थानीय लोगों के बीच जागरूकता कार्यक्रम और व्यापक प्रचार प्रसार किये जाने तथा सम्बंधित विभागों की एक कार्यशाला आयोजित किये जाने की जानकारी दी। वही दूसरी ओर जिलाधिकारी सी रविशंकर ने जनपद में कोरोना संक्रमण की स्थिति पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए बताया कि कोविड संक्रमण जिले में नियंत्रण की स्थिति में है। टेस्टिंग संतोषजनक ढंग से की जा रही है। पाॅजिटिव लोगों की संख्या नियंत्रित हैं। हेल्थ केयर वर्कर का वैक्सीनेशन बड़ी संख्या में चल रहा है। सेशन साइट बढ़ायी जा रही है जिससे अधिक संख्या में टीकाकरण सम्पन्न कराया जा सके। कुम्भ मेला में फं्रट लाइन वर्कर का वैक्सीनेशन युद्ध स्तर पर किये जाने की तैयारी की जा रही है। मेले के समय पर कोविड कंट्रोल के लिए टीमें बनानी हैं। टेस्टिंग बढ़ाने के लिए प्राइवेट लैब व अन्य कार्यो के लिए वाॅलेंटियर को प्रशिक्षित किया जा रहा है। जिले स्तर की कार्ययोजना विचार विमर्श चल रहा है। सभी तैयारियां पूर्ण होने पर पुनः सूचित किया जायेगा।


Comments