तीन अप्रैल को स्थापित होगी अखाड़े की धर्मध्वजा,5को निकलेगी पेशवाई-मुखिया महंत

हरिद्वार। श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन के मुखिया महंत भगतराम महाराज ने कहा है कि कुंभ मेला स्वर्ग दर्शन के समान है। जिसके दौरान पतित पावनी मां गंगा के अमृतमयी जल का आचमन जो श्रद्धालु भक्त कर लेता है। कनखल पहाड़ी बाजार स्थित अखाड़े में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज से कुंभ मेले पर चर्चा करते हुए मुखिया महंत भगतराम महाराज ने कहा कि 3 अप्रैल को श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन की धर्म ध्वजा सभी संत महापुरुषों के सानिध्य में लहराई जाएगी। जिसके बाद 5 अप्रैल को भव्य पेशवाई ग्राम बिशनपुर कुंडी से निकाली जाएगी, जो विभिन्न मार्गो से होते हुए पहाड़ी बाजार स्थित अखाड़े की छावनी में पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि कुंभ मेला सनातन  संस्कृति का सबसे बड़ा पर्व है। जिस दौरान मां गंगा में स्नान करने से आत्मा को उच्च लोकों की प्राप्ति सहजता से हो जाती है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि कुंभ मेला दुनिया भर में किसी भी धार्मिक प्रयोजन हेतु भक्तों का सबसे बड़ा संग्रहण है। जो विश्व में अनेकता में एकता का प्रचार संचारित करता है। महंत जगतार मुनि महाराज ने कहा कि कुंभ मेले की व्यवस्थाएं भी सभी के लिए सुचारू रूप से उपलब्ध होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 12 वर्ष की लंबी अवधि के बाद कुंभ का आयोजन होता है। कोरोना महामारी को देखते हुए सरकार को यात्रियों एवं श्रद्धालुओं के लिए विशेष सुविधाएं उपलब्ध करानी चाहिए। ताकि को मेले के दौरान श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़े।