मेलाधिकारी ने किया सिंहद्वार फ्लाईओवर का शुभारंभ

 कुंभ से जुडे अधिकांश कार्य पूरे, शेष बचे कार्य भी बहुत जल्द पूरे कर लिए जाएंगे-रावत

हरिद्वार। सिंहद्वार फ्लाईओवर को यातायात के लिए खोल दिया गया। मंगलवार को मेलाधिकारी दीपक रावत ने नारियल फोड़कर हरिद्वार-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित सिंहद्वार फ्लाईओवर का शुभारंभ किया। उन्होने कहा कि इससे दिल्ली, उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य पड़ोसी राज्यों से हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं और आमजन को सुविधा होगी। मेलाधिकारी दीपक रावत ने प्रेमनगर आश्रम के सामने से होकर बने सिंहद्वार फलाईओवर के एक तरफ के मार्ग का नारियल तोड़कर शुभारंभ करते हुए कहा कि कुंभ के दृष्टिगत यह फ्लाईओवर महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि फरवरी के अंत तक सिंहद्वार फ्लाईओवर से पूरी तरह आवाजाही प्रारंभ हो जाएगी। मेलाधिकारी ने एनएचएआई के अधिकारियों को मौके पर निर्देश दिये कि कुंभ को देखते हुए सिंहद्वार से लेकर शंकर आश्रम चैक तक का हिस्सा महत्वपूर्ण है। इसलिए फ्लाईओवर के शेष अधूरे कार्य को फरवरी के अंत तक हर हाल में पूरा किया जाए। उन्हांेने कहा कि फ्लाईओवर के पूरा होने से आसपास के राज्यों से होकर हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं, यात्रियों और स्थानीय नागरिकों को काफी सहूलियत होगी और जाम से भी निजात मिलेगी। मेलाधिकारी ने कहा कि कुंभ से जुडे अधिकांश कार्य पूरे हो चुके हैं। शेष बचे कार्य भी बहुत जल्द पूरे कर लिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि आस्थापथ पर बने घाटों पर दो चार दिन में पानी पहुंच जाएगा। ऋषिकेश आस्था पथ पर जो कार्य अधूरे हैं, उन्हें भी फरवरी के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। इस दौरान मेलाधिकारी ने सिंहद्वार फ्लाईओवर के कार्यों की प्रगति का स्थलीय निरीक्षण भी किया। उन्होने एनएचएआई के अधिकारियों से हाईवे के किनारे लगे मिटटी के ढेर को हटवाने और शेष कार्यों को गुणवत्ता के साथ समय से पूरा करने के निर्देश अधिकारियांे को दिये। दूसरी लेन पर मिटटी भरान का कार्य तेज गति से पूरा कराने के भी निर्देश दिये। इसके पूर्व मेलाधिकारी ने सेव द ट्री प्रोजेक्ट के तहत तुलसी चैक से सटे हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण द्वारा विकसित पार्क का भी निरीक्षण किया। उन्होने पार्क में बनाये गये सेव द ट्री माडल की प्रशंसा की। निरीक्षण के दौरान अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह, एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर प्रदीप गुंसाईं, टीम लीडर कंसल्टेंट सत्यभान सिंह, जनसंपर्क अधिकारी अतुल शर्मा, सेतु अभियंता कंसल्टेंट एके पांडेय, कुम्भ मेला तकनीकी प्रकोष्ठ के अधीक्षण अभियंता हरीश पांगती, विशेष कार्याधिकारी कुंभ मेला महेश शर्मा सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।