गंगा में विसर्जित की गयी शहीद सैनिक की अस्थियां,

हरिद्वार। जम्मू कश्मीर के राजौरी में पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद हुए लक्ष्मण राम पिचकिया की अस्थियां मंगलवार को पूर्ण विधि विधान के साथ हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड पर विसर्जित की गयी। पुरोहित मक्खन चक्खन के प्रपौत्र सौरभ सिखौला ने अस्थि विसर्जन कराया। अस्थि विसर्जन से पूर्व युवा पुरोहितों ने अस्थि कलश पर पुष्पांजलि अर्पित कर शहीद लक्ष्मण राम को श्रद्धांजलि दी। राजस्थान के रहने वाले शहीद सैनिक लक्ष्मण राम पिचकिया 3 फरवरी को जम्मू कश्मीर के राजौरी में पाकिस्तान द्वारा की गयी गोलीबारी में शहीद हो गए थे। मंगलवार को उनके परिजन छोटे भाई सुनील पिचकिया, बहन सुशीला, चचेरे भाई श्याम लाल, भांजा रविन्द्र व भतीजी पिंकी अस्थि कलश लेकर हरकी पैड़ी पहुंचे। सौरभ सिखौला ने बताया कि 23 वर्षीय युवा सैनिक लक्ष्मण राम का अप्रैल माह में विवाह होना था। लेकिन इससे पूर्व ही देश की रक्षा करते हुए उन्हांेने अपने प्राण न्योछावर कर दिये। ऐसे वीर सिपाही के पुरोहित होने पर वे स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। सौरभ सिखोला ने कहा कि युवा पुरोहितों ने निर्णय लिया है कि भविष्य में किसी भी शहीद के अस्थि विसर्जन के लिए कोई दक्षिणा आदि नहीं ली जाएगी। श्रद्धांजलि देने वालों में सचिन कौशिक, सुशील दत्त चाकलान, सौरभ सिखौला, सुनील चाकलान, अनिल कौशिक, नितिन, गोगी सिखौला, गौरव शर्मा आदि पुरोहित शामिल रहे।