टरबाईन बनाने वाला प्रदेश का पहला निजी संस्थान है गोगोल हाइड्रो प्राईवेट लिमिटेड

हरिद्वार। उत्तराखण्ड के हरिद्वार जिले में एक ऐसा निजी औद्योगिक संस्थान है जो जल विद्युत परियोजनाओं के लिए टरबाईन बनाने का काम करता है यह उत्तराखंड का पहला निजी औद्योगिक संस्थान है जिसे महारथ हासिल है। इस संस्थान गोगोल हाइड्रो के प्रबन्ध निदेशक सतीश कुमार अरोड़ा ने अपने कुशल प्रबन्धन के द्वारा टरबाईन बनाने की परियोजना को पूरा किया। जबकि इनके सामने कई चुनौतियां थी। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रूद्रप्रयाग जिले में स्थित कालीगंगा नदी पर बनी उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम लिमिटेड की कालीगंगा-प्रथम लघु जल विद्युत परियोजना (4 मेगावाट) का लोकार्पण किया। इस परियोजना के समस्त इलैक्ट्रो-मैकेनिकल के डिजाइन, निर्माण तथा कमिशनिंग का कार्य गोगोल हाइड्रो प्राईवेट लिमिटेड ने किया है जो कि हरिद्वार स्थित उत्तराखण्ड की एकमात्र कंपनी है। अरोड़ा का कहना है कि कोविड-19 महामारी के कारण कंपनी को कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। इस परियोजना को पूरा करने के लिये आवश्यक उपकरण, सामान तथा कुशल विशेषज्ञों की उपलब्धता एक चुनौती थी। उन्होंने बताया कि गोगोल हाइड्रो प्राईवेट लिमिटेड एक लघु पैमाने की कंपनी है जिसने अत्याधुनिक तकनीक से इस जल विद्युत परियोजना का कार्य किया है और बहुराष्ट्रीय कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है।