एसएनए व लिपिक के साथ अभद्रता करने वाले भाजपा पार्षदों की सदस्यता समाप्त करने की कर्मचारियों ने की मांग

 

हरिद्वार। नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के नेतृत्व में बोर्ड बैठक में भाजपा पार्षदों पर अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ अभद्रता किए जाने का आरोप लगाते हुए कर्मचारियों ने दोषी पार्षदों की सदस्यता समाप्त किए जाने की मांग को लेकर मेयर को ज्ञापन दिया। अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ अभद्रता के विरोध में नगर निगम के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। कर्मचारियों की हड़ताल के चलते शहर से कूड़ा भी नहीं उठ पाया। कार्यवाही की मांग को लेकर कर्मचारियों ने कार्यालयों में तालाबंदी कर नगर निगम परिसर में धरना दिया। धरने के बाद संयुक्त मोर्चा के नेताओं के नेतृत्व में कर्मचारी मेयर कार्यालय पहुंचे और ज्ञापन दिया। मेयर कार्यालय पर मौजूद मेयर अनिता शर्मा, नगर आयुक्त जय भारत सिंह, बीजेपी नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल के अलावा भाजपा व कांग्रेस के कई पार्षद मौजूद रहे। इस दौरान संयुक्त मोर्चा की ओर से भाजपा पार्षद शुभम मंदोला, सचिन अग्रवाल और पार्षद पति चिराग अरोड़ा को बर्खास्त करने की मांग की। इस दौरान मेयर अनिता शर्मा भाजपा पार्षदों से माफी मंगवाने की बात करते हुए स्वयं भी भाजपा पार्षदों की तरफ से माफी मांगी। लेकिन कर्मचारी संतुष्ट नहीं हुए। नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के संयोजक सुरेंद्र तेश्वर, सह संयोजक राजेंद्र श्रमिक, राजेंद्र चुटैला, नरेश चिनयाना, सुनील राजौर, अरविंद चंचल आदि ने कहा कि 30 जनवरी को आयोजित नगर निगम बोर्ड बैठक में भाजपा पार्षद शुभम मंदोला व सचिन अग्रवाल न सहायक नगर आयुक्त विनोद कुमार एवं लिपिक वेदपाल के साथ अभ्रदता एवं अशोभनीय व्यवहार किया। जिससे समस्त निगम कार्मिकों के मान सम्मान को गहरी ठेस पहुंची है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों पर अनावश्यक रूप से दबाव बनाने के लिए नियम विरूद्ध प्रस्ताव बोर्ड में पारित कराने की चेष्टा भी की जा रही है। इतना सब होने के बाद भी मेयर व वरिष्ठ निगम अधिकारियों द्वारा दोषी पार्षदों के खिलाफ अब तक कोई कार्यवाही नही की गयी। जोकि बेहद निंदनीय है। इंदर सिंह रावत, प्रवीण तेश्वर, जितेंद्र तेश्वर ने कहा कि मेयर व नगर निगम प्रशासन को दोषी पार्षदों की सदस्यता समाप्त करने के संबंध में शासन को कार्यवाही करने हेतु पत्र भेजे जाने के अलावा इनके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही भी की जाए। नियम विरूद्ध किसी भी प्रस्ताव पर कोई विचार ना किया जाए। यदि दोषी पार्षदों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गयी तो संयुक्त मोर्चा अनिश्चितकालीन आंदोलन चलाने को बाध्य होगा। इस दौरान नीरज बागड़ी, शैलेश चंद, अशोक, राजेश खन्ना, बलराम, सुदर्शन, अभिनव, सुभाष, नानक चंद, अनुराग, सुनीला, किशोर, कुशमपाल, अजय कुमार, राकेश, लक्ष्मीचंद, प्रमोद, हनुमान सिंह, मनोज, संजय, रामचंद्र, संगीता, मुनेश, कुसुम, सीमा, शकुंतला आदि सहित सैकड़ों की संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे।