निगम कर्मचारियों का कार्यबहिष्कार दूसरे दिन भी जारी,सफाई व्यवस्था ठपप

 

हरिद्वार। भाजपा पार्षद द्वारा सहायक नगर आयुक्त के साथ अभद्र व्यवहार से नाराज नगर निगम में कर्मचारियों का दूसरे दिन भी कार्य बहिष्कार कर तालाबंदी जारी रहा। मंगलवार को निगम प्रांगण में कर्मचारी धरने पर डटे रहे। नाराज कर्मचारी भाजपा पार्षदों के सार्वजनिक रूप से माफी मांगने और निलंबन की कार्रवाई की मांग पर अड़े हैं। मांगे पूरी होने पर धरना जारी रखने की चेतावनी दी। कर्मचारियों का आरोप है कि बोर्ड बैठक में भाजपा पार्षदों ने सहायक नगर आयुक्त और वरिष्ठ लिपिक वेदपाल से अभद्र व्यवहार किया है। इसको लेकर गुस्साए कर्मचारियों ने सोमवार को कार्य बहिष्कार कर निगम में तालाबंदी की थी। मंगलवार को भी दूसरे दिन को नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के बैनर तले कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर तालाबंदी जारी रखते हुए धरना दिया। मोर्चा के संयोजक सुरेंद्र तेश्वर ने कहा कि एसएनए और वरिष्ठ लिपिक से पार्षदों को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी होगी। पार्षदों के खिलाफ निलबंन की कार्रवाई की जाए। बदसलूकी किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सह संयोजक राजेंद्र श्रमिक ने कहा कि जब तक पार्षद अधिकारियों से माफी नहीं मांगेंगे और उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई नहीं होगी, तब तक कर्मचारी कार्य बहिष्कार आंदोलन जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि पार्षद के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है। लेकिन पार्षद की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। बुधवार को नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा पार्षद की गिरफ्तारी के लिए नगर कोतवाली में प्रदर्शन करेगा। कार्य बहिष्कार करने वालों में राजेंद्र चुटैला, नरेश चुनयाना, सुनील राजौर, अरविंद चंचल, इंदर सिंह रावत, प्रवीण तेश्वर, जितेंद्र तेश्वर, नीरज बागड़ी, गगन कांगड़ा, आत्मराम बेनीवाल, राहुल कैंथोला, अखिलेश शर्मा, लक्ष्मीकांत भट्ट, नवीन कुमार, अनिरुद्ध गौड़, श्रीकांत चैधरी, शैलेश चंद, अशोक, राजेश खन्ना, बलराम, सुदर्शन, अभिनव, सुभाष, नानक चंद आदि शामिल रहे। दूसरी ओर कर्मचारियों के कार्य बहिष्कार के चलते शहर की सफाई व्यवस्था ठप्प रही। निगम कर्मचारियों के कार्य बहिष्कार के चलते डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन नहीं होने के साथ ही कूड़े का निस्तारण भी नहीं हुआ। शहर में जगह जगह कूड़े के अंबार लगे रहे।