यशिका को न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग, हत्यारों को फांसी देने की माॅग

 

हरिद्वार। शनिवार शाम तीर्थ नगरी में यशिका के हत्यारों को फांसी देने की मांग को लेकर  जनसैलाब सड़कों उमड़ पड़ा। महिला हो या बच्चे या बड़े बड़े हो या बूढ़े या जवान सभी यशिका को न्याय दिलाने के लिए ज्वालापुर की सड़कों पर उतर पड़े। उपनगरी ज्वालापुर के रेलवे फाटक से यशिका को न्याय दिलाने के लिए मोमबत्ती जुलूस निकाला गया। इस जुलूस में कारवां जुड़ता गया, जुलूस में चल रही महिलाओं ने नारा लगाया यशिका के हत्यारों को फांसी दो फांसी दो यशिका हम शर्मिंदा हैं तेरे कातिल जिंदा है। यशिका की 3 दिन पहले  अपने ससुराल में रहस्यमय स्थिति में मौत हो गई थी। उसके गले में चोट का निशान था उसकी शादी 2 महीने पहले उत्तराखंड कांग्रेस की प्रदेश महामंत्री पूनम भगत के बेटे शिवम से हुई थी। यशिका के घर वालों ने उसके पति शिवम और उसकी सास पूनम भगत पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा ज्वालापुर कोतवाली में दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि यशिका का मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न उसकी सास पूनम भगत और उसका पति शिवम भगत कर रहे थे। मोमबत्ती जुलूस रेलवे फाटक ज्वालापुर से शुरू हुआ और ज्वालापुर के मुख्य मार्गो श्री राम चैराहा ,अंसारी मार्केट ,कटहरा बाजार ,चैक बाजार ,डाट मोहल्ला ,चैहानान मोहल्ला  से होते हुए  थाना ज्वालापुर पहुंचा जहां लोगों ने थाना अध्यक्ष को ज्ञापन दिया और यशिका के हत्यारों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग की अभी तक पुलिस ने केवल यशिका के पति शिवम भगत को ही गिरफ्तार किया है। अन्य आरोपियिों के गिरफ्तारी की मांग की है। जुलूस में लोग पूनम भगत और उनके बेटे शिवम के खिलाफ पोस्टर और बैनर लिए हुए थे। जुलूस में गंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ठ, पार्षद नितिन राणा ,नगर निगम की मेयर की बेटी नेहा शर्मा ,अशोक पाराशर, प्रमोद शर्मा मिट्ठू ,राजेंद्र भारद्वाज ,बादल अरोड़ा ,राहुल भारद्वाज ,महेश भाटिया ,गौरव, रोहित शर्मा, अभय शर्मा ,वासु गर्ग एडवोकेट ,प्रज्ञा ,साक्षी आदि समेत बड़ी तादाद में लोग बाग मौजूद थे।  हर दल के नेता और कार्यकर्ता यशिका को न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे यशिका के प्रति लोगों में इतनी जबरदस्त सहानुभूति थी कि राजनीतिक दलों की सभी सीमाएं टूट गई और हर दल और हर वर्ग का व्यक्ति इस जुलूस में शामिल था गंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ट ने कहा कि पुलिस को जल्दी ही यशिका के हत्यारों को गिरफ्तार करना चाहिए और उन्हें सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए।