विभिन्न माॅगों को लेकर ब्रहचारी आत्मबोधानंद का तपस्या आज से

 

हरिद्वार। मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने खनन बंदी का नोटिफिकेशन जारी करने, स्टोन क्रशर गंगा से पांच किलोमीटर दूर करने के साथ ही चार मांगों को लेकर 23 फरवरी मंगलवार से तपस्या शुरू करने की घोषणा की है। तपस्या मातृसदन के ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद करेंगे। स्वामी शिवानंद ने कहा कि अगर स्वामी सानंद की मांगें मान ली जाती तो चमोली त्रासदी नहीं होती। जगजीतपुर स्थित मातृसदन में पत्रकारों से वार्ता करते हुएं स्वामी शिवानंद ने कहा कि प्रोफेसर सानंद द्वारा उठाये गये चार मांगों मंदाकिनी, अलकनंदा, भागीरथी और उनकी सहायक नदियों पर बनने वाले सभी प्रस्तावित और निर्माणाधीन बांध को निरस्त करने, रायवाला से राय घटी तक खनन बंदी का नोटिफिकेशन, गंगा से पांच किलोमीटर दूर स्टोन क्रशर को करने के अलावा गंगा भक्त परिषद बनाने की मांग मान ली जाती तो चमोली त्रासदी नही होती। उन्होंने कहा कि उनकी मांगों को क्रियान्वित करने के लिए दोबारा तपस्या शुरू की जा रही है। उन्होने चमोली त्रासदी मामले की एसआइटी जांच के साथ दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।