नियमितीकरण की मांग को लेकर मनरेगा कर्मचारियों ने दिया धरना

 

हरिद्वार। ग्राम विकास विभाग में कार्यरत मनरेगा कर्मचारी नियमितीकरण, ग्रेड पे, ईपीएफ, स्वास्थ्य सुविधाएं, वेतन वृद्धि आदि मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार पर रहे। दो दिवसीय कार्य बहिष्कार के पहले दिन कर्मचारियों ने रोशनाबाद स्थित विकास भवन कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर धरना दिया। महात्मा गांधी नरेगा कर्मचारी संगठन के संरक्षक पंकज श्रीवास्तव व अध्यक्ष अजय मिश्रा ने कहा कि ग्राम विकास विभाग में डीपीओ, जेई, कम्प्यूटर आॅपरेटर, ग्राम रोजगार सेवक आदि पदों पर कार्यरत मनरेगा कर्मचारी लंबे समय से नियमितीकरण, समायोजन, ग्रेड पे, ईपीएफ, स्वास्थ्य सुविधा, वेतन वृद्धि आदि की मांग कर रहे हैं। लेकिन शासन स्तर पर अब तक कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिए जाने के कारण दो दिवसीय कार्यबहिष्कार का निर्णय लिया गया। यदि सरकार ने जल्द मांगे पूरी नहीं की तो कर्मचारी बड़े स्तर पर आंदोलन करने को मजबूर होंगे। अशोक यादव व दीपेंद्र रावत ने कहा कि कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए नियमितीकरणा किया जाना चाहिए। श्री यादव ने कहा कि कई बार मांगों को लेकर आंदोलन किया गया। लेकिन मांगों को लेकर सरकार ने अब तक कोई पहल नहीं की। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के संरक्षक जटाशंकर श्रीवास्तव ने कर्मचारियों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि शासन प्रशासन को मनरेगा के कर्मचारियों की मांगों का संज्ञान लेना चाहिए। साथ ही कर्मचारियों की अन्य मांगों पर अतिशीघ्र संज्ञान लिया जाए। जटाशंकर श्रीवास्तव ने कहा कि कर्मचारियों के हितों की लड़ाई प्रदेश भर में लड़ी जा रही है। कर्मचारियों का शोषण किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। धरना देने वालों में शबनूर अली, दीपेंद्र रावत, जयंत चैधरी, सौरभ श्रीवास्तव, अंजली जोशी, अजय मिश्रा, सुमित सैनी, लखन सिंह, अमृत राठी, अजय मिश्रा, रजत शर्मा, सतीश चैहान, सचिन नौटियाल, बलराम सिंह, राजकुमार गुप्ता, सुभाष जोशी आदि शामिल रहे।