कुम्भ मेला में मूलभूत सुविधाओं से सम्बन्धित कार्य 31मार्च तक पूरा करे-मण्डलायुक्त

 कुम्भ मेला में मूलभूत सुविधाओं से सम्बन्धित कार्य 31मार्च तक पूरा करे-मण्डलायुक्त

हरिद्वार। गढ़वाल आयुक्त रविनाथ रमन ने सेक्टर वार मजिस्ट्रेटों की तैनाती, बिजली, पानी की व्यवस्था सुचारू रूप से नियोजित करने के निर्देश दिए। उन्होंने भीड़ नियंत्रण, अवस्थापना विकास, आंतरिक सड़कों के निर्माण, साफ सफाई और सुरक्षा पर विशेष बल दिया। गढ़वाल मण्डलायुक्त सीसीआर में मेलाधिकारी दीपक रावत,जिलाधिकारी सी रविशंकर सहित अन्य अधिकारियों के साथ बैठक कर कुम्भ के कार्यो की समीक्षा की। उन्होने अधिकारियांे से अब तक हुए कुम्भ से सम्बन्धित कार्यों की जानकारी ली। गढ़वाल मंडल आयुक्त ने सेक्टर वार मजिस्ट्रेटों की तैनाती, बिजली, पानी की व्यवस्था सुचारू रूप से नियोजित करने के निर्देश दिए। उन्होंने भीड़ नियंत्रण, अवस्थापना विकास, आंतरिक सड़कों के निर्माण, साफ सफाई और सुरक्षा पर विशेष बल दिया। उन्होंने निर्देश दिए कि सेक्टरवार, पानी, बिजली इत्यादि व्यवस्था के लिए जिला स्तरीय अधिकारी लगाए जाएं और सेक्टर मजिस्ट्रेट इसका पर्यवेक्षण करें। आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन ने कुंभ में भीड़ नियंत्रण, पार्किंग, सड़क, बिजली, पानी के कार्यों को युद्ध स्तर पर पूरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देश के क्रम में अखाड़ों विशेषकर बैरागी अखाड़ों के लिए जमीन आवंटन और उसमें मूलभूत सुविधाओं को देना हमारी प्राथमिकता है। समय कम है इसलिए सभी कार्य सुनियोजित तरीके से 31 मार्च तक हर हाल में अवश्य पूरा कर लिया जाए। आंतरिक सड़कों का निर्माण कार्य भीड़ की वजह से रात में ही संभव है, इन सभी बिंदुओं को देखते हुए सभी कार्य पूर्ण कराए जाएं। बैठक में गढ़वाल मंडलायुक्त ने यह भी निर्देश दिये कि आश्रम, अखाडों, सन्त-महात्माओं के निरन्तर सम्पर्क में रहंे। मेला से सबंधित अधिकारी ही स्थानीय स्तर पर इनकी समस्याआंे का समाधान कर लें। उनके फोन उठाकर उत्तर अवश्य दें। उन्होंने कहा कि सम्बन्धित विभाग आश्रम अखाड़ों से लाइजनिंग, सम्पर्क के लिये अधिकारी तैनात कर लें।  बैठक में अपर मेलाधिकारी डॉ0 ललित नारायण मिश्र, हरबीर सिंह, उप मेला अधिकारी अंशुल सिंह (आईएएस), किशन सिंह नेगी, दयानंद सरस्वती, सिटी मजिस्ट्रेट जगदीश लाल, नगर आयुक्त जय भारत सिंह, वित्त नियंत्रक वीरेंद्र कुमार के अलावा अधिशासी अभियंता पीडब्लूडी रुड़की प्रवीण कुमार तथा पेयजल निगम, जल संस्थान, विद्युत और लोक निर्माण विभाग के अभियंतागण भी मौजूद थे।

Comments