भूमिगत विद्युत लाइन परियोजना का केन्द्रीय उर्जा मंत्री ने किया लोकापर्ण

 वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा योजना से श्रद्वालुओं को होगा लाभ

हरिद्वार। भारत का अमृत महोत्सव के तहत शहर में भूमिगत विद्युत लाइन परियोजना का ऋषिकुल आॅडोटोरियम में केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आरके सिंह, मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, पीएफसी के अध्यक्ष-प्रबंध निदेशक रविंद्र ढिल्लो ने वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से नगर विधायक और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने मौके पर दीप प्रज्जवलित कर परियोजना का लोकार्पण किया गया। 301.22 करोड़ रुपये की लागत से करीब पौने दो साल में भूमिगत की गई लाइनों से शहर में बिजली की समस्या से लोगों को निजात मिलेगी।  इस दौरान केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री आरके सिंह ने कहा कि हरिद्वार देशभर के लोगों के दिलों में बसता है। इस परियोजना से देश का हर व्यक्ति खुश होगा। कहा कि हरिद्वार शहर के और हिस्सों में भी भूमिगत लाइन परियोजना को पूरा कराने काम भविष्य में होगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की तीन लाख करोड़ की योजना के तहत बिजली के कई कार्य जल्द होंगे। उन्होंने इस योजना के तहत ऊर्जा सचिव को प्रस्ताव देने के लिए कहा। उन्होंने इस परियोजना को जल्द पूर्ण करवाने के लिए राज्य की ऊर्जा सचिव राधिका झा एवं यूपीसीएल के अधिकारियों को बधाई दी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हरिद्वार में भूमिगत केबलिंग को और विस्तार देने के प्रयास किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि भूमिगत केबलिंग की व्यवस्था से जुड़ने वाला बनारस के बाद हरिद्वार दूसरा राज्य है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि बनारस के बाद हरिद्वार शहर की विद्युत लाइनें भूमिगत हुई हैं। इस योजना से स्थानीय लोगों के साथ ही बाहर से आने वाले यात्री, श्रद्धालु भी लाभान्वित होंगे। क्योंकि भूमिगत लाइनें होने से 24 घंटे लोगों को बिजली मिल पाएगी। आंधी, बारिश, तूफान से होने वाली विद्युत आपूर्ति में व्यवधान पूरी तरह खत्म हो जाएंगे। नगर विधायक और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि बनारस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद मिला। उन्होंने कहा कि कुंभ में पेशवाई के दौरान दो-दो दिन तक शहर की बिजली काटनी पड़ती थी। हरिद्वार को लेकर ऊर्जा राज्यमंत्री से उन्होंने दिल्ली में मुलाकात की थी। उन्होंने हरिद्वार के लिए इस परियोजना को स्वीकृति प्रदान की। जिसका लाभ आज यहां की जनता को मिल रहा है। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने कहा कि हरिद्वार को इस परियोजना की बहुत आवश्यकता थी। पूरे साल स्नान पर्वों के साथ ही 12 वर्ष में कुंभ मेले का आयोजन हरिद्वार में होता है। इस योजना से बिजली चोरी व अन्य बिजली की समस्या भी खत्म होगी। ऊर्जा सचिव राधिका झा ने कहा कि यूपीसीएल ने एक वर्ष 10 माह के अंदर रिकार्ड समय में शहर की लाइनें भूमिगत करने का काम किया है। कार्यक्रम में रूड़की विधायक प्रदीप बत्रा, प्रबंध निदेशक यूपीसीलए नीरज खैरवाल, निदेशक पंचायत अतुल अग्रवाल, निदेशक परियोजना जेएमएस रौथान, चीफ इंजीनियर एसके टम्टा, चीफ इंजीनियर सतीश शाह, सुपरिटेन्डिंग इंजीनियर रवि राजोरा, अधिशासी अभियंता विद्युत विभाग हरिद्वार के अलावा भाजपा जिला महामंत्री विकास तिवारी, मण्डल महामंत्री तरूण नैय्यर, युवा मोर्चा मण्डल अध्यक्ष चंद्रकांत पाण्डे आदि भाजपा कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।