कुंभ मेला निर्विघ्न सम्पन्न कराने को स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने किए शक्तिपीठो की पूजा

हरिद्वार। जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द महाराज ने कहा कि कुंभ मेला 2021 पर करोना का साया है। ऐसे में कुंभ का आयोजन भी खतरे में दिखाई दे रहा है। कुंभ मेला को निर्विघ्न सम्पन्न कराने के लिए उन्होंने हरिद्वार की अधिष्ठात्री देवी मंसा देवी, चंडी देवी, भैरवनाथ एवं शीतला माता के दर्शन कर आशीर्वाद मांगा है। बताते चले कि कुंभ मेला में शंकराचार्य शिविर का शुभारम्भ हो गया है। जिसमें सोमवार से गंगा आरती के साथ विध्वित पूजा अर्चना भी शुरू की गई है। आगामी 2 अप्रैल को जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द हरिद्वार पधार रहे है। 8 अप्रैल को भव्य पेशवाई का भी आयोजन किया जायेगा। इस कड़ी में मंगलवार को कुंभ की सपफलता व करोना महामारी के नाश की प्रार्थना की कामना को लेकर ज्योतिष पीठाधीश्वर एवं द्वारका-शारदा पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद सरस्वती महाराज के प्रतिनध् िस्वामी अविमुक्तेंश्वरानन्द महाराज ने हरिद्वार के शक्तिपीठों के दर्शन किए। देव दर्शन के दौरान कुंभ मेला करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र है लेकिन कोरोना महामारी के चलते मेले के आयोजन को लेकर संशय बना हुआ है। ऐसे में उन्होंने हरिद्वार की अध्ष्ठिात्री देवी मां भगवती मनसा देवी, चंडी देवी एवं शीतला माता के दर्शन कर कुंभ की सपफलता के लिए मां भगवती से प्रार्थना की। उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में बने शंकराचार्य शिविर में विध्वित मां गंगा की पूजा अर्चना के साथ गंगा आरती का शुभारंभ हो गया है। आगामी 8 अप्रैल को अनंत विभूषित ज्योतिष पीठाधीश्वर एवं द्वारका शारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की अगुवाई में भव्य शोभायात्रा निकाली जाएगी। 2 अप्रैल को हरिद्वार पहुंच जाएंगे। उनके आगमन सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। मंदिर पहुंचने पर संतों व पुजारी ने स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द का स्वागत किया। इस दौरान ब्रह्मचारी मुकुंदानंद, श्रवणानंद सहित अन्य मौजूद रहे।