संत महापुरूषों ने ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी के शतायु होने की कामना की

 हरिद्वार। जयराम पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज का अवतरण दिवस सभी तेरह अखाड़ों के संत महापुरूषों के सानिध्य में धूमधाम से मनाया गया। संत महापुरूषों ने स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज पर पुष्प वर्षा कर शतायु होने की शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। श्री जयराम आश्रम में आयोजित अवतरण दिवस समारोह को संबोधित करते हुए जगद्गुरू शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज ने कहा कि स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी के नेतृत्व जयराम आश्रम द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में प्रदान किए गए अतुलनीय योगदान से संपूर्ण देश भलीभांति परिचित है। बच्चों को शिक्षा के साथ संस्कार प्रदान उनमें सेवाभावना जागृत करना बेहद महत्वपूर्ण है। सनानत धर्म के प्रचार प्रसार के लिए भावी पीढ़ी को संस्कारवान बनाना संत समाज की महत्ता को दर्शाता है। अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि देश भर में जयराम आश्रमों की श्रृंखला खड़ी कर सनातन धर्म व संस्कृति के संरक्षण, राष्ट्र की उन्नति तथा सेवा व शिक्षा क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान कर रहे स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज सभी के प्रेरणास्रोत हैं। निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने कहा कि समाज कल्याण व मानवता की सेवा के लिए जीवन समर्पित करने वाले स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज महान संत है। जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज ने कहा कि जिस संकल्प के साथ स्वामी ब्रह्मचारी महाराज राष्ट्र उत्थान में अपना सहयोग प्रदान कर रहे हैं। निर्मल पीठाधीश्वर श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह वेदांताचार्य महाराज ने स्वामी ब्रह्मस्वरूप महाराज की दीर्घायू की कामना करते हुए कहा कि महापुरूषों ने सदैव ही समाज का मार्गदर्शन कर नयी दिशा प्रदान की है। स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि संत महापुरूष सदैव उनके लिए पूज्यनीय रहे हैं। प्रत्येक कार्य में उन्हें संत महापुरूषों का पूर्ण सहयोग मिला है। पूज्य गुरूदेव ब्रह्मलीन स्वामी देवेंद्र स्वरूप ब्रह्मचारी महाराज के दिखाए मार्ग का अनुसरण करते हुए तथा संत महापुरूषों के आशीर्वाद से मानवता व राष्ट्र कल्याण में अनवरत् रूप से योगदान करते रहेंगे। कार्यक्रम में प्रसिद्ध भजन गायक अजय याज्ञनिक ने सुन्दरकाण्ड की संगीतमय प्रस्तुति देकर उपस्थित श्रद्धालु भक्तों के भक्ति रस से सरोबार कर दिया। इस अवसर पर महंत रूपेंद्र प्रकाश, श्रीमहंत महेश्वरदास, महंत निर्मलदास, म.म.स्वामी हरिचेतनानंद, म.म.स्वामी रामेश्वरानन्द सरस्वती, म.म.ललितानंद गिरी, महंत मोहन सिंह, महंत तीरथ सिंह, स्वामी ऋषि रामकृष्ण, श्रीमहंत रविन्द्रपुरी, महंत जगतार मुनि, महंत जसविन्दर सिंह, महंत देवेंद्र ंिसंह शास्त्री, म.म.उमाकांतानंद सरस्वती, म.म.स्वामी अर्जुनपुरी, श्रीमहंत सत्यगिरी, श्रीमहंत साधनानंद, स्वामी मुक्तानंद बापू, श्रीमहंत संपूर्णानंद ब्रह्मचारी, महंत अरूणदास, स्वामी केशवानंद, महंत दुर्गादास, डा.संजय पालीवाल, नईम कुरैशी, प्रदीप चैधरी, विमला पाण्डे, तेलूराम प्रधान, सीओ सिटी अभय सिंह सहित बड़ी संख्या में मौजूद रहे ।