अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर संतों ने किया कन्या पूजन

 

हरिद्वार। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर तपोनिधि पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी में अखाड़े के संतों ने कन्या पूजन कर सभी को महिला दिवस की बधाई दी। कन्या पूजन में संतों के साथ कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल भी शामिल हुए। इस अवसर पर निरंजनी अखाड़े के सचिव व अखाड़े के कुंभ मेला प्रभारी श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज ने कहा कि सनातन धर्म में कन्याओं को देवी स्वरूपा माना गया है। तमाम हिन्दू धर्म शास्त्रों में स्पष्ट रूप से उल्लेखित है कि जहां महिलाओं की पूजा होती हैं वहां देवी देवता वास करते हैं। धर्म क्षेत्र में भी महिलाओं को हमेशा विशिष्ट स्थान दिया गया है। संत परंपरा में भी महिलाओं को बराबरी का दर्जा व पूर्ण सम्मान दिया जाता है। श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज ने कहा कि आदि अनादि काल से कन्याओं को देवी का स्वरूप मानकर पूजा जाता है। संत परंपरा का पालन करते हुए कन्याओं का देवी स्वरूप में पूजन किया गया है। अखाड़े के रमता पंचों के नगर प्रवेश के दौरान भी सबसे पहले कन्या पूजन किया गया था। उन्होंने युवा वर्ग से अपील करते हुए कहा कि महिलाओं का सम्मान व उनकी रक्षा करें। कुंभ मेले के अवसर पर किए गए कन्या पूजन में उन्हें भी देवी स्वरूपा कन्याओं का आशीर्वाद प्राप्त हुआ। इस दौरान निरंजनी अखाड़े के आचार्य महाण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी, आनन्द पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी बालकांनद गिरी, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी व निंरजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रामरतन गिरी भी मौजूद रहे।