सफाई कर्मचारियो की समस्याओ को लेकर 23 को निकाली जायेगी जनअधिकार रैली

 हरिद्वार। देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ की ओर से कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए 23 अप्रैल को जन अधिकार रैली निकाली जाएगी। इसके अलावा दो मई को प्रदेश के कर्मचारी संघ के बैनर तले कार्य बहिष्कार कर आंदोलन करेंगे। हरिद्वार नगर निगम के संयुक्त कर्मचारी मोर्चा को पत्र लिखकर संघ ने आंदोलन में समर्थन भी मांगा है। गढ़वाल मंडल अध्यक्ष गगन कांगड़ा ने बताया कि शासनादेश 2015 के ढांचे में संशोधन, सफाई कर्मचारियों के आउटसोर्सिंग के पद के स्थान पर स्थाई पदों मानक 1000 पर पांच सफाई कर्मचारी व चालक के आउटसोर्सिंग के पद के स्थान पर स्थाई पद वाहन की उपलब्धता के आधार पर किए जाएं। केंद्रीय और अकेंद्रीय कर्मचारियों की नियमावली में संशोधन करते हुए पर्यावरण मित्रों को कनिष्ठ सहायक, पर्यावरण पर्यवेक्षक, सफाई निरीक्षक आदि के पदों पर पदोन्नति का लाभ दिया जाए। सफाई कर्मचारियों का जीवन बीमा और स्वास्थ्य बीमा किया जाए। सफाई कर्मचारियों को राज्य कर्मचारियों की भांति सातवें वेतनमान के अनुसार सभी निकायों में आवास भत्ता व अन्य भत्ते दिए जाएं। धुलाई भत्ता और टूल भत्ते में वृद्धि की जाए। भूमिहीन वाल्मीकि समाज के लोगों का स्थाई निवास प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र प्राथमिकता के आधार पर बनाए जाएं। अशोक चैहान और नीरज बागड़ी ने बताया कि विभिन्न मांगों को लेकर सफाई कर्मचारी 23 अप्रैल को हरिद्वार में जन अधिकार रैली निकालेंगे। एक मई को प्रदेशभर के सफाई कर्मी मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंगे। इसके बाद दो मई को काम बंद कर पूरे प्रदेश के कर्मचारी हड़ताल करेंगे। इसके लिए संयुक्त कर्मचारी मोर्चा को पत्र लिखकर समर्थन भी मांगा गया है।


Comments