25 अप्रैल को देवडोलियों के कुम्भ स्नान की तैयारियां जोरों पर- मुकेश जोशी

 हरिद्वार। 24 अप्रैल को पहाड़ों के विभिन्न भागों से देवडोलियां अपने प्राण प्रतिष्ठित चिह्न के साथ ढोल दमाऊं के नृत्य पर हरिद्वार पहुंचेगी और 25 अप्रैल प्रातः हरि की पैड़ी पर कुम्भ स्नान करने के बाद आशीर्वाद देकर अपने स्थान- स्थान को प्रस्थान कर जायेगी। देव डोलियों के शाही स्नान के संबंध में जानकारी देते हुए कार्यक्रम के सह संयोजक मुकेश जोशी ने बताया कि हरिद्वार के स्थानीय एवं बाह्य साधु संतों, धर्मगुरु कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहन सिंह गांववासी, एवं बड़ी गणमान्य महानोभाओं की गरिमामय उपास्थि में श्री बद्री नारायण भगवान और श्री वीर हनुमान जी की धर्मध्वजाये पूर्व में ही प्रेम नगर आश्रम में स्थापित हो चुकी है। उन्होंने बताया कि हरिद्वार गढ़वाल महासभा ने आगामी होने वाले देव डोलियों के शाही कुंभ स्नान के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है जिसके लिए समय-समय पर शासन प्रशासन के साथ में बैठकर चल रही है उन्होंने बताया कि देव डोलियों के शाही स्नान हेतु शासन और प्रशासन हर संभव मदद के लिए तैयार है। देवडोलियो के बारे में डा0 हरिनारायण जोशी ने  बताया कि हमारे उत्तराखंड के अंचलों में जैसे बदरी-केदार, गंगोत्री-जमुनोत्री, जागेश्वर, पाताल भुवनेश्वर, सेम मुखेम नागराजा, महासू देव, नौ शक्तिपीठ जैसे प्रसिद्ध धामों के अतिरिक्त पहाड़ों की हर ऊंची चोटी में पौराणिक काल से ही देवी देवताओं के मन्दिरों की स्थापना है। यही नहीं हर गांव और कुटुम्ब का अपना ग्राम और कुल देवता है जो परम ईश्वरीय शक्ति के ही अंश होते हैं। उनके साक्षात अवतरण दर्शन के लिए किसी साधक-साधिका पर अल्प समय के लिए देवी-देवता अपनी दृष्टा देते हैं जिन्हें देवी देवताओं का पश्वा, पसीण या औतारा कहा जाता है। ये साधक जीवन भर विशेष नियमों का पालन करते हैं और सम्बन्धित देवी देवता की आराधना के लिए नियमबद्ध होकर समर्पित रहते हैं। देव डोलियों के साथ इन सभी का आगमन कुम्भ स्नान के लिए रहेगा।उन्होंने सभी लोगो से निवेदन किया धार्मिक और आध्यात्मिकता के साक्षात दर्शन के लिए इन देव डोलियों के स्वागत के लिए आप भी पधार कर पुण्य के भागी बनें।


Comments