मेलाधिकारी एवं मेला आईजी ने शाही स्नान सकुशल होने पर जताया आभार

 हरिद्वार। कुम्भ मेलाधिकारी दीपक रावत ने मुख्य शाही स्नान सकुशल सम्पन्न होने के बाद मेला अधिष्ठान से जुड़े सभी अधिकारियों,सुरक्षाबलों के साथ साथ स्वयंसेवी संस्थाओं का धन्यवाद ज्ञापित किया है। उन्होने कहा कि कुंभ की अधिकारिक अवधि 30 अप्रैल तक ही रहेगी। मेलाधिकारी दीपक रावत ने कोविड संक्रमण के खतरों को देखते हुए सरकार ने मेला जल्द समेटने की अटकलों को खारिज कर दिया है। दूसरी तरफ भीड़ कम होने के कारण एक-दो दिन में फोर्स की वापसी भी शुरू हो जाएगी। बुधवार को हरिद्वार कुंभ का सबसे महत्वपूर्ण पड़ाव बैसाखी पर्व संपन्न हो गया है। कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत ने कहा कि कुंभ मेला जनवरी में शुरू होना था, लेकिन कोरोनाकाल को देखते हुए राज्य सरकार ने अप्रैल में इसे शुरू करने का फैसला किया। केंद्र की एसओपी के अनुसार स्थिति के मद्देनजर मेला की अवधि को कम किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेले की अवधि कम करने के संबंध में अभी मेरे पास जानकारी नहीं है। उन्होंने मेला प्रशासन, पुलिस प्रशासन तथा श्री गंगा सभा के पदाधिकारियों, स्वयं सेवकों का  स्नान पर्वों में हर स्तर पर सहयोग देने के लिये धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होने कहा कि हरिद्वार कुंभ की अधिकारिक अवधि 30 अप्रैल तक ही रहेगी। कोविड संक्रमण के खतरों को देखते हुए सरकार ने मेला जल्द समेटने की अटकलों को खारिज कर दिया है। मेला आईजी संजय गुज्याल ने कहा कि इस बार तय समय में शाही स्नान सकुशल सम्पन्न हो गया। उन्होने कहा कि अभी तीन और स्नान पर्व है,लेकिन दूसरी तरफ भीड़ कम होने के कारण एक-दो दिन में फोर्स की वापसी भी शुरू हो जाएगी।वार्ता के दौरान कुम्भ मेला एसएसपी जन्मेजय खण्डूडी,उपमेलाधिकारी अंशुल सिंह तथा नोडल अधिकारी सूचना मनोज श्रीवास्वत भी मौजूद रहे।


Comments