भीड़ प्रबंधन बेहतर रखना सभी की जिम्मेदारी-अशोक कुमार,

 आपसी समन्वय के साथ श्रद्धालुओं की सेवा करनी करनी है-रविनाथ रमन

शाही स्नान को लेकर सुरक्षा बलों की ब्रीफिंक
हरिद्वार। 12अप्रैल सोमवती अमावस्या के मौके पर होने प्रथम शाही स्नान एव 14 अप्रैल को दूसरे शाही स्नान पर्वों को सकुशल सम्पन्न कराये जाने हेतु तैनात सुरक्षा बलों एवं अन्य अनुशांगिक इकाईयों की ब्रीफिंग गुरूवार को पुलिस लाइन भल्ला काॅलेज मैदान में आयोजित की गयी। गढ़वाल मंडलायुक्त रविनाथ रमन ने इस अवसर पर कहा कि कुम्भ मेला अपने आप में ऐसा आयोजन है, जिसमें देश-विदेश के श्रद्धालु भाग लेते हैं। उन्होंने कहा कि महामारी में यह सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन हो रहा है। उन्होंने कहा कि कुंभ की ड्यूटी अन्य ड्यूटी से अलग होती है, कोविड भी है, इसलिए इन सभी परिस्थितियों के अनुरूप अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। जो भी परिस्थिति आए आपको विनम्र स्वभाव रखकर अपना फर्ज निभाना होगा। यही संदेश आपकी उपलब्धि होगी। उन्होंने कहा कि आपसी समन्वय के साथ हमें श्रद्धालुओं की सेवा करनी है। यदि कहीं कोई समस्या है, तो आपसी तालमेल और सहयोग से त्वरित रिस्पांस करते हुए समस्याओं का समाधान करना होगा। किसी भी विपरीत परिस्थितियों में सेक्टर मजिस्ट्रेट और मेला कंट्रोल रूम को तत्काल सूचना दें, जिससे उसका समाधान जल्द हो सके। मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि हरिद्वार का स्नान सीमित क्षेत्र में होता है, इसलिए सीमित क्षेत्र में स्नान के दौरान अनावश्यक लगी दुकानें, ठेलियां, गाडियां या कोई भी अन्य अनावश्यक संरचना हटनी चाहिये ताकि मेला क्षेत्र को काफी स्पेस मिल सके। उन्होंने कहा कि भीड़ को रोकें नहीं, उन्हें नियंत्रित करते हुए आगे बढ़ाते रहें। मेलाधिकारी ने कहा कि आवश्यक सेवाओं को भी बाधित नहीं होने देना है, इसका भी ख्याल रखना है। उन्होंने यह भी कहा कि ड्यूटी के दौरान विनम्र स्वभाव के साथ सभी प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी अपनी जिम्मेदारी निभाएं। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि जो भी जरूरत मंद जैसे दिव्यांगजन, बीमार, बुजुर्गों आदि की, पूरी मदद करें, पैदल रूट पर सभी व्यवस्था सुनिश्चित करें, वाहनों को पार्किंग में खड़ा करायें। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि जिसे भी महाकुंभ में ड्यूटी करने का अवसर मिला है, वह सौभाग्यशाली है, क्योंकि उसे मां गंगा और मानवता की सेवा करने का अवसर मिला है। उन्होंने कहा कि यह समय काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि आने वाले स्नान पर्व काफी महत्वपूर्ण है। इन पर्वों में देशभर के लोग आते हैं। उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण यह है कि हमें अपनी ड्îूटी की जानकारी और उसकी भूमिका का ज्ञान होना चाहिए। सभी की भूमिका बराबर और अहम है। उन्होंने चेन का उदाहरण देते हुये कहा कि चेन उतनी ही मजबूत होगी, जितनी उसकी कड़ी मजबूत होगी। शाही स्नानों के लिए हरकी पैड़ी अखाड़ों के लिए आरक्षित रहेगा, इसलिए श्रद्धालुओं को अन्य घाटों पर जाने की राह दिखाएं। भीड़ प्रबंधन बेहतर रखना सभी की जिम्मेदारी है। पुलिस महानिरीक्षक महाकुंभ, संजय गुंज्याल ने कहा कि कोविड के कारण पिछले साल सभी स्नान स्थगित हो गये थे।. इस साल जनवरी से ये फिर से शुरू हुये हंै, इसलिए कुंभ को लेकर लोगों में उत्साह है। उन्होंने कहा कि हरिद्वार कुंभ का प्रभाव राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी पड़ता हैै। इसलिए आप सभी को इसी अनुरूप अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। एक माला के रूप में एकजुटता के साथ अपनी ड्यूटी निभाएंगे तभी पूर्ण सफलता प्राप्त होगी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महाकुम्भ जन्मेजय खंडूड़ी ने सुरक्षा बलों से ड्यूटी के दौरान अपने विवेक का इस्तेमाल कर जिम्मेदारी का निर्वहन करने की सीख दी। उन्होंने कहा कि मां गंगा की सेवा करने वाले का अवसर जिसे मिलता है, वह सौभाग्यशाली होता है। ब्रीफिंग के दौरान जिलाधिकारी सी0 रविशंकर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सेंथिल अबूदई कृष्ण राज एस, अपर मेलाधिकारी डाॅ0 ललित नारायण मिश्र, रामजी शरण शर्मा, एडीएम बी0के0 मिश्रा, के0के0 मिश्रा, उप मेलाधिकारी दयानंद सरस्वती, किशन सिंह नेगी, सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट के अलावा पुलिस,पीएसी,अर्द्धसैनिक बलों एवं अन्य अनुशांगिक इकाईयों के अधिकारीगण उपस्थित थे।