ट्रैवल व्यवसायियों ने की चारधाम यात्रा नियमों में संशोधन की मांग

 

हरिद्वार। ट्रैवल व्यवसायियों ने चारधाम यात्रा नियमो को सरल करने की मांग की है। अमित गुप्ता की अध्यक्षता में आयोजित हरिद्वार ट्रेवल एसोशिएशन की वर्चुअल बैठक को सम्बोधित करते हुए अध्यक्ष उमेश पालीवाल ने कहा कि चारधाम यात्रा पर सरकार ने अनेक प्रकार की पाबंदियां लगा दी हंै। जिसका असर यात्रा की बुकिंगों पर पड़ना शुरू हो गया है सरकार को बुरी तरह से त्रस्त पर्यटन व्यवसायियों की स्थिति को देखते हुए नियमों में बदलाव करना चाहिए। जिससे यात्री आयें और व्यवसाय चल सके। महामंत्री सुमित श्रीकुंज ने कहा कि सिर्फ आरटीपीसीआर रिपोर्ट की अनिवार्यता लागू करने से ही यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं की बुकिंग में कमी आयी थी। अब सरकार ने सीबीएनएएएटी व टुनेट आदि टेस्ट भी अनिवार्य कर दिए हैं। जिसके कारण श्रद्धालुओं का आना नामुमकिन है और यात्रा न के बराबर ही चल पाएगी। डेढ़ साल से परेशान व्यवसायी बुरी तरह टूट जाएगा। इसमे जल्द सुधार नही किया गया तो एसोसिएशन आंदोलन से भी पीछे नही हटेगी। उपाध्यक्ष सूरज शर्मा व भुवन गोस्वामी ने कहा कि व्यवसायी  बिना व्यापार के भी सरकार को लगातार टैक्स, एश्योरेंस, फिटनैस व बैक की किश्ते दे रहे है। चारधाम यात्रा से व्यवसायियों को उम्मीद थी जो कि टूटती हुई नजर आ रही है। उन्होंने कहा कि बंगाल विधानसभा चुनाव व उत्तराखण्ड में सल्ट विधानसभा उपचुनाव में खूब भीड़ जुट रही है। लेकिन वहां कोई नियम लागू नहीं किए जा रहे। यदि सरकार इतने सख्त नियम लागू कर चारधाम यात्रा कराना चाहती है तो ट्रेवल व्यवसायियों को सभी करो मे छूट व उचित मुआवजा दे। ताकि व्यापारी अपने परिवार का भरण पोषण कर सकें। वर्चुअल बैठक में अभिनव जमदग्नि, दर्पण गोयल,आशीष पन्त, सुरेंद्र जैन, अनुज सिंघल, गोपाल छिब्बर, सन्दीप गोस्वामी, लव बुद्धिराजा, कपिल हंस, समीर चावला, दीपक धनवानी आदि व्यवसायियों ने भाग लिया। 


Comments