अनुसूचित जाति के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वालों के खिलाफ कारवाई की मांग

 

हरिद्वार। अनुसूचित मोर्चा भाजपा हरिद्वार के जिला अध्यक्ष तेलूराम प्रधान ने झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस की नेता सुजाता मंडल खान द्वारा पश्चिम बंगाल के अनुसूचित जाति समुदाय के लोगों पर अपमानजनक टिप्पणी के खिलाफ शिकायत संबंधी ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को प्रेषित कर इस संदर्भ मंे उचित कार्रवाई करने की मांग की है। जिला अध्यक्ष तेलूराम प्रधान ने राष्ट्रपति को भेजे ज्ञापन में कहा है कि पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस नेता सुजाता मण्डल खान ने अनुसूचित जाति समुदाय के लोगों को लेकर अत्यंत अपमानजनक टिप्पणी करते हुए कहा है कि- ‘‘भिखारी स्वभाव से होते हैं, या अभाव से, पश्चिम बंगाल में एससी स्वभाव से भिखारी है। ममता दीदी के इतना करने के बाद भी बीजेपी के पास पहुंच गए।’’ पश्चिम बंगाल के अनुसूचित जाति समुदाय के लोगों को भिखारी कहकर अपमानित करने वाला तृणमूल कांग्रेस की नेता का यह बयान घोर आपत्तिजनक है। यह निंदनीय बयान पश्चिम बंगाल के सभी अनुसूचित जाति के लोगों को इरादतन अपमानित करने वाला है। उन्होंने कहा है कि हमारे देश के संविधान में देश के सभी नागरिकों के लिए सामाजिक एवं आर्थिक न्याय, अवसरों में समानता और व्यक्ति की गरिमा व सम्मान की रक्षा की भावना अंतर्निहित है। संविधान के अनुच्छेद-46 के अनुसार राज्य समाज के कमजोर वर्गों में शैक्षणिक और आर्थिक हितों विशेषतः अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजतियों का विशेष ध्यान रखेगा और उन्हें सामाजिक अन्याय एवं सभी प्रकार के शोषण से संरक्षित रखेगा। संविधान यह संरक्षण देता है कि किसी को अपमानित नहीं किया जा सके। तृणमूल कांग्रेस की नेता द्वारा एससी समुदाय के लोगों को भिखारी कहा जाना, आईपीसी के कई प्रावधानों का भी उल्लंघन है। तृणमूल कांग्रेस की नेता सुजाता मंडल खान द्वारा दिया ऐसा आपत्तिजनक तथा अपमानित करने वाला बयान बाबा साहेब अम्बेडकर द्वारा रखे गये लोकतंत्र व गणराज्य की परिकल्पना के खिलाफ है। इस संदर्भ में केन्द्रीय चुनाव आयोग तथा अनुसूचित जाति के राष्ट्रीय आयोग के समक्ष भी शिकायती ज्ञापन दिया गया है। ज्ञापन में झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल, अनु.मोर्चा भाजपा हरिद्वार के जिला महामंत्री संजय कुमार, मण्डल अध्यक्ष व पार्षद मनोज परालिया, अमित कुमार, आदेश प्रधान, यशपाल, कुलदीप आदि समेत अनेक एससी समाज के वरिष्ठ नेताओं ने हस्ताक्षर कर अपना विरोध जताया है।


Comments