पूर्णागिरी आश्रम परिसर में लगे टेंट में आग लगने से अफरातफरी मची

हरिद्वार। शाही स्नान के दौरान कनखल में पूर्णागिरी आश्रम परिसर में लगे टेंट में आग लगने से अफरातफरी मच गई। दरअसल, पांडाल में एक श्रद्धालु खाने में तड़का लगा रहा था। इसी दौरान तेल के आग पकड़ने के बाद नीचे बिछाई गई पुराल और पांडाल  धू-धूकर जलने लगा। फायर ब्रिगेड ने मशक्कत कर आग पर काबू पाया। गनीमत रही कि गैस के 16 सिलेंडर फटने से बचा लिए गए। कनखल में संन्यास रोड पर स्थित पूर्णागिरी आश्रम में श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए परिसर में टेंट का पांडाल लगाया गया था। कुंभ स्नान को आए श्रद्धालुओं को इस पांडाल में ठहराया गया था। बुधवार सुबह करीब साढ़े 11 बजे एक श्रद्धालु परिवार पांडाल के भीतर गैस पर खाना बना रहा था। अचानक तेल ने आग पकड़ ली। लौ उठने पर श्रद्धालुओं के हाथ से बर्तन छूटकर नीचे गिर गया, जिससे जमीन पर बिछाई गई पुराल में आग लग गई। देखते ही देखते आग ने पूरे पांडाल को अपनी चपेट में ले लिया और श्रद्धालुओं में अफरातफरी मच गई। मेला क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों में संन्यास रोड की ओर से धुंआ उठता देख मेला कंट्रोल रूम ने मुख्य अग्निशमन अधिकारी नरेंद्र कुंवर के मोबाइल पर सूचना दी। जिस पर सीएफओ अपने साथ दो गाडियां लेकर संन्यास रोड की तरफ रवाना हो गए। टीम जब मौके पर पहुंची तो पांडाल में भीषण आग लगी हुई थी। आग इतनी विकराल थी कि पांडाल में रखा एल्यूमीनियम का भगोना आधा पिघल गया। दमकल टीम तत्काल श्रद्धालुओं और उनका सामान सुरक्षित कर आग बुझाने में जुट गई। टीम ने अंदर रखे 16 गैस सिलेंडरों को बाहर निकाल लिया। करीब एक घंटे की मेहनत के बाद आग बुझा ली गई। अग्निकांड में श्रद्धालुओं के कप


Comments