व्यापारियों ने किया बाजार बंदी के फैसले का विरोध

 हरिद्वार। कमल मिश्रा’ प्रदेश व्यापार मण्डल की बैठक में व्यापारियों ने बाजार बंदी के सरकार के फैसले का विरोध किया। बैठक में सरकार के फैसले का विरोध करते हुए व्यापारियों ने कहा कि जब फैक्ट्रीयां खुली हैं, शराब के ठेके खुले है तो क्या केवल दुकानदार ही कोरोना फैला रहे हैं। व्यापारियों ने मांग की कि दुकाने शाम सात बजे तक खुलनी चाहिए व चार धाम यात्रा स्थगित करने के चलते व्यापारीयो को आर्थिक पैकेज दिया जाए। टिहरी विस्थापित कालोनी स्थित कार्यालय पर बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष संजीव चैधरी ने कहा कि जब सब कुछ खुला रहेगा तो केवल कुछ दुकाने दो बजे बंद करने का क्या औचित्य है। उन्होंने कहा कि जब क्रफ्यू शाम सात बजे से लगाया जाना है तो दुकानें भी सात बजे तक खुलनी चाहिए। चैधरी ने कहा सरकार के ढीले रवैए से कुम्भ के कारण पूरे उत्तराखंड में कोरोना का विस्फोट हो गया और किसी भी व्यापारी को उसका लाभ नहीं मिला। व्यापारी की हालत और खराब हो गई और अब सरकार ने अपने पाप छिपाने को चार धाम यात्रा पर भी ऐसे कानून लगा दिए कि किसी भी सूरत में यात्री ना आ सके। उन्होंने कहा कि सरकार को तत्काल व्यापारियों को आर्थिक सहायता देनी। सरकार के जिम्मेदार मंत्रियों को कुम्भ की जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से त्याग पत्र दे देना चाहिए। ना तो कुम्भ हुआ ना व्यापारी को लाभ हुआ ना यात्री आए। पूरा कुंभ भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया और एक बार फिर दुकानदारो को बर्बाद करने के लिए आदेश जारी कर दिया गया है। बैठक में मुख्य रूप से व्यापारी नेता मयंक मूर्ति भट्ट, महामंत्री सुमित अरोरा, आदेश मारवाड़ी, प्रवीण शर्मा, जतीन, विशाल मूर्ति भट्ट, मास्टर सतीश शर्मा, आकाश शर्मा, पुष्पेंद्र गुप्ता, दीपक काला, मिथिलेश वर्मा, अरविंद, विजय आदि अनेक व्यापारी शामिल हुए।


Comments