रामनवमी के मौके पर हजारों श्रद्वालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

 श्रद्वालुओं को कराया गया कोविड19 का पालन

हरिद्वार। रामनवमी स्नान पर्व के मौके पर श्रद्वालुओं ने हर की पैड़ी के साथ साथ गंगा के विभिन्न घाटों पर गंगास्नान कर मन्दिरों में पूजा अर्चना कर सुख-समृद्वि की कामना की। बुधवार को कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते संक्रमण के बीच कुम्भ मेला 2021 के तहत रामनवमी के मौके पर स्नान पर्व में श्रद्वालुओं की संख्या अपेक्षा के अनुरूप काफी कम रही। एतिहासिक हर की पैड़ी पर बहुत कम संख्या में श्रद्वालुओं ने गंगा में आस्था की डुबकी लगाई। इस दौरान मेला पुलिस की ओर से सुरक्षा के खास इंतजामात किये गये थे,जबकि स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरी तरह से चैकस रहकर कोविड19 के संक्रमण की जांच में भी जुटी रही। कुम्भ मेला 2021 के दौरान बुधवार को रामनवमी के मौके पर स्नान पर्व था,पिछले कुम्भ की बात करे तो लाखों श्रद्वालुओं ने गंगा स्नान किये थे,लेकिन इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़़़़ते दायरे के कारण मेला प्रशासन द्वारा कुछ नियमों का पालन कराये जाने के फलस्वरूप श्रद्वालुओं की तादाद कम ही रही। इस दौरान मेला पुलिस की ओर से पूरे कुम्भ मेला क्षेत्र को 4 जोन एवं 11सैक्टरों में बाॅटकर जोनल मजिस्टेªट के साथ अतिरिक्त पुलिस बल के साथ साथ जल पुलिस,बम स्कवायड की टीमें भी तैनात की गयी थी। कुम्भ मेला 2021 का अब केवल एक शाही स्नान 27 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा के मौके पर होनी है। बुधवार को स्नान पर्व के दृष्टिगत आईजी मेला संजय गुंज्याल ने मंगलवार को ही ऑनलाइन पुलिसकर्मियों को दिशा निर्देश भी जारी कर दिए थे। जबकि बुधवार की पूर्व संध्या से ही स्नान के दृष्टिगत जनपद की सीमाओं पर सख्ती बढ़ा दी गई थी।  लेकिन अगर कहा जाये तो इस बार कोरोना के संक्रमण के कारण सबसे फीका स्नान रामनवमी के अवसर पर रहा। पिछले वर्ष 2010 के कुंभ में 10 लाख श्रद्धालुओं ने स्नान किया था। हलांकि स्नान पर्व के दिन गंगा घाटों सहित हरकी पैड़ी पर बेहद ही कम भीड़ दिखाई दी। 

Comments