Skip to main content

वेदलक्षणा गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबन्ध तथा तत्काल गोपालन मन्त्रालय का गठन की मांग

वेदलक्षणा गोविज्ञान संगोष्ठी में कई विख्यात संतो ने एकसुर से गौवंश की रक्षा को बताया जरूरी

 हरिद्वार। लोक प्रसिद्ध गोसेवा संस्थान श्रीगोधाम महातीर्थ पथमेङा द्वारा संचालित वेदलक्षणा गोकृपानगर भूपतवाला शिविर मे प्रायोजित गोपुष्टी महायज्ञ की पूर्णाहुति तथा गोवत्स श्री राधाकृष्ण के व्यासत्व मे संपादित श्री रामचरितमानस नवान्ह पारायण समापन अवसर पर गोऋषि स्वामी श्री दत्तशरणानन्दजी महाराज की प्रत्यक्ष उपस्थिति में वेदलक्षणा गोविज्ञान संगोष्ठी का अपूर्व एवं ऐतिहासिक आयोजन हुआ। संगोष्ठी की अध्यक्षता जगद्गुरु रामानन्दाचार्य श्रीरामभद्राचार्यजी महाराज तुलसीपीठ चित्रकूट द्वारा की गई तथा श्रीगोधाम महातीर्थ पथमेङा के गौरवाध्यक्ष गोउपासक स्वामी राजेन्द्रदास देवाचार्यज महाराज मलूकपीठ ने संचालन किया। मानवजाति के भाग्य को बदलने वाली इस अतिविशिष्ट बैठक मे कार्षि्ण स्वामी श्री गुरूशरणानन्दजी महाराज रमणरेती गोकुल मथुरापुरी, महामण्डलेशवर स्वामी श्री विवेकानन्दजी महाराज, जगदगुरू रामानुजाचार्य श्रीजीयर स्वामीजी महाराज बक्सर बिहार, निर्मल अखाङा परमाध्यक्ष स्वामी ज्ञानदेवसिंह जी महाराज, महामण्डलेश्वर गीतामनीषी स्वामी श्रीज्ञानानन्दजी महाराज कृष्ण कृपा धाम कुरूक्षेत्र, परमार्थनिकेतन पमराध्यक्ष स्वामी चिदानन्द (मुनिजी),महामण्डलेशर स्वामी श्रीहरिचेतनानन्दजी महाराज उदासीन अखाङा, महामण्डलेशर स्वामी अर्जुनपुरीजी महाराज तुलसीमानस मन्दिर हरिद्वार, भारत प्रसिद्ध महायज्ञों के आयोजक तथा स्वामी प्रबलजी महाराज,राष्ट्रीय गोसेवा मिशन के अध्यक्ष गोकरूणामूर्ति स्वामी       श्रीकृष्णानन्दजी महाराज पंजाब, श्रीकृष्णायन गोशाला हरिद्वार के अध्यक्ष महामण्डलेश्वर ईश्वरदासजी महाराज, ब्रह्मपीठाधीशवर श्रीमहन्त त्रिवेणीधाम जयपुर के साथ साथ भारत के सभी धामों, तीर्थों,सम्प्रदायों, अखाड़ों एवं सन्त परम्पराओं का निर्वहन करने वाली राष्ट्र की महान आध्यात्यामिक विभूतियों ने एक पहर पर्यन्त धर्मशास्त्र व आयर्वेद शास्त्र के प्रकाश मै गहन विचार विमर्श किया। वेदलक्षणा गोविज्ञान संगोष्ठी मे उपस्थित उपरोक्त सभी महामनिषयो ने दैनिक जीवनचर्या के अनुभवों व अपनी आध्यात्यामिक साधनाओं के सारस्वरूप का मन्थन पुर्वक निर्णय करते हुए समवेत स्वर में कहा कि लाखों वर्षों से भारतीय परम्परा में वेदलक्षणा गोमाता के वात्सल्य से प्राप्त दूध, दही, घृत, गोमय व गोमूत्र का दैनिक जीवन में औषधि, आहार, उपासना तथा धरती के पोषण, प्रकृति के संवर्धन, पर्यावरण के परिशोधन एवं मानवीय संस्कृति के विस्तार में विधिपूर्वक विनियोग होता रहा है उसके परिणामस्वरूप हम भारतवंशियों के पूर्वज अदम्य रोगप्रतिरोधक शक्ति से सम्पन्न,शौर्य, ओज, तेज, बल, धैर्य, वीर्य, स्मृति, मेधा तथा लौकिक व अलौकिक अपार ऐश्वर्य से युक्त हजारों वर्षों की गोव्रती पारमार्थिक दीर्घायु प्राप्त करते थें भारतीय इतिहास एवं आज के गोव्रती देवपुरुषों का जीवन ही  इसका ज्वलन्त ओर प्रत्यक्ष प्रमाण है। अतः सैकड़ों पीढ़ियों से परीक्षित अनुभूत पंचगव्यामृत प्रयोग मानव के शरीर, मन, मस्तिष्क सहित पृथ्वी,जल, अग्नि, वायु, आकाश आदि (समष्टि प्रकृति) को सब प्रकार के विषाणुओं तथा रोगाणुओं से रहित करने वाली व सात्विक जीवनी बढानी वाली अमोघ कालजयी व निरापद महौषधि है। इसलिए हम सभी आध्यात्मिक जगत मे भारतीय परम्पराओ उपासक व अनुयायी भारत सरकार के मुख्य घटकों से आग्रहपूर्वक निवेदन करते है कि इस समय कोरोना महामारी से भयभीत व संत्रस्त मनुष्य जाति सहित सम्पूर्ण जीवशजगत की सुरक्षा एवं परमहित के लिए अविलम्ब विशेष संसद-सत्र बुलाकर वेदलक्षणा गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाऐ तथा तत्काल स्वतन्त्र गोपालन मन्त्रालय का गठन करके वेदलक्षणा गोमाता से प्राप्त पंचगव्यामृत को अपनी आधुनिक अनुसंधानशालाओं में विधिवत परिस्कृत कर सम्पूर्ण औषधीय प्रयोगों द्वारा वर्तमान विनाशकारी विषाणुओ व रोगाणुओ से पहले भारतीय प्रजा के प्राणों की से रक्षा करे। इसके उपरान्त समस्त विश्व मानव जाति के जीवन रक्षार्थ प्रसादरूप में वेदलक्षणा पंचगव्यामृत का वितरण करके भारत राष्ट्र को महान श्रेय और किर्ती प्रदान कराए, साथ ही पृथ्वी, जल, वायु को विषाणुओं से मुक्त एवं जीवनी शक्ति से युक्त बनाने के लिए पंचगव्यामृत का शास्त्रीय विधि से उपयोग करके भविष्य को भी सुरक्षित करने का सतत प्रयास प्रारंभ करे। हम सभी भारत,सरकार को विशवास दिलाते है की सजगता तथा निष्ठा के साथ किया गया वेदलक्षणा पंचग्वयामृत का प्रयोग भारत,सहित सारे संसार के लिए महान राहत देने वाला एवं सर्वकल्याणकारी सिध होगा वेदलक्षणा गोविज्ञान संगोष्ठी मे विद्यमान उपरोक्त पुज्य धर्माचार्यो तथा संत महात्माओ ने सभी आध्यात्यामिक धार्मिक सामाजीक शेक्षणिक व राजनेतिक संस्थानो समुहो व संगनो के संचलाको तथा भारत की आम जनता से अपिल करते हुए आग्रह किया है की हमारे देश के समस्त उपासना स्थलो जन सेवा संस्थानो शिक्षा आदि प्रतिष्ठानो पारीवारीक आवासो तथा कृषी भुमीयो मे पवित्रीकरण शुधीकरण पुष्टीकरण सहित विविध प्रकार से वेदलक्षणा पंचग्वयामृत का विधिवत प्रयोग करके अपनी अपने आश्रीत जनो एवं देश की प्रजा को सुरक्षित रखने मे अति महत्वपुर्ण भुमीका का निर्वहन करके भविष्य जीवन उज्जवल आनंदकारी बनाए, वेदलक्षणा गोविज्ञान संगोष्ठी के समापन से पुर्व सभी महापुरषो ने स्वयं गोवृत का पालन करने तथा श्रीगोधाम महातीर्थ पथमेङा के माध्यम से  हरिद्वार क्षेत्र मे वेदलक्षणा पंचग्वयामृत अनुसंधान की स्थापना व पंचग्वयार्वैद चिकित्सालय के संचालन मे संपुर्ण सहयोग करने का सर्वहितकारी आशीर्वाद प्रदान कर वैदिक गोउत्पाद फाऊडेशन द्वारा निर्मित वेदलक्षणा पंचग्वयामृत प्रसाद ग्रहण करने के उपरान्त अपने अपने स्थानो की ओर प्रस्थान किया। 


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है- हीरा सिंह बिष्ट

  हरिद्वार। कमल मिश्र- हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं की एक बैठक राज विहार फेस थर्ड जगजीतपुर हरिद्वार में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता हिंदू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष संजय चैहान एवं संचालन महानगर महामंत्री चंद्रप्रकाश जोशी ने किया। बैठक में मुख्य अतिथि युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट एवं जिला अध्यक्ष मनीष चैहान रहे। इस अवसर पर हिंदू जागरण मंच संगठन में कुछ नए युवाओं को दायित्व सौंपकर फूल मालाओं से उनका स्वागत किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य प्रदेश महामंत्री हीरा सिंह बिष्ट ने सर्वप्रथम सभी लोगों को होली की बधाई दी और संगठन में शामिल किए गए नए कार्यकर्ताओं का फूल मालाओं से स्वागत किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारा भारत  देश एक हिंदूवादी राष्ट्र है। हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है। लेकिन आज वर्तमान समय में देखने को मिल रहा है कि हमारी हिंदुत्व एकता धीरे-धीरे समाप्त होती जा रही है। हमारा हिंदू राजनेताओं की राजनीति के जाल के कारण भटक चुका है हमको भारत के सभी हिंदू समाज में एकता करना ही हमारा मूल उद्देश्य है। हमें किसी राजनीतिक दल एवं पार्टी से को