श्रद्धालुओं की सेवा कर मिसाल पेश कर रही कुंभ मेला पुलिस

 

हरिद्वार। मानव सेवा ही अध्यात्म का प्रतिफल है। दया, प्रेम, करुणा ओर उदारता सेवा के अलंकार है। इस वाक्य को चरितार्थ करते हुए पुलिस के जवान कुंभ में जनसेवा में जुटे हैं। पुलिस के बारे में आम लोगों की धारणा के उलट कुंभ मेले में पुलिस का अलग ही रूप लोगों को देखने को मिला है। कुम्भ मेला जिसका मूल ही मानव सेवा, त्याग, दान और उदारता है। कुंभ मेले में बिछुड़ो को मिलाना, सामान खो जाने पर तत्परता से ढूंढ कर वापस दिलाना, श्रद्धालुओं को गोद में उठा कर स्नान कराना, गंतव्य से भटक गए श्रद्धालुओं को राह दिखाने जैसे अनेक प्रशंसनीय ओर सराहनीय कार्य कुंभ पुलिस द्वारा किये जा रहे हैं। लालजी वाला के इंस्पेक्टर होशियार सिंह पंखोली ने सेवा की मिसाल कायम करते हुए गंगा स्नान के लिए आए भक्तों को अपने हिस्से से खाना खिलाया। भक्तों की संख्या बढ़ने पर उन्होंने सभी के लिए स्वयं के खर्चे से भोजन बनवाया। इसके अलावा सैकड़ों भक्तों को पानी की बोतले, बिस्कुट और मास्क भी वितरित कराए। इंस्पेक्टर होशियार सिंह का कहना है कि गंगा स्नान के लिए दूर दूर से आए श्रद्धालुओं की सेवा करके सुकून मिलता है। चंडीघाट कुम्भ थाना क्षेत्र में एक नेपाली परिवार का रुपयों से भरा बैग गायब हो गया। जिससे उनके समक्ष नेपाल वापस जाने की समस्या पैदा हो गयी। जिस पर कुम्भ मेला पुलिस थाने के जवानों के द्वारा 8 हजार रुपया इकठ्ठा करके परिवार को दिए और उन्हें टनकपुर जाने वाली बस में सवार कराया। 


Comments