सावधानी,सर्तकता और सजगता अपनाये कोरोना से सुरक्षित रहे-डाॅ0संजय शाह

 

हरिद्वार। ‘‘जिन लोगों ने वैक्सीन लगा ली है, मास्क पहनते हैं, पूरी सावधानी बरतते हैं वह सुरक्षित हैं, लेकिन अगर वायरस को नए मौके मिलेंगे तो केस भी बढ़ेंगे। कोरोना के फैलने के साइज को कम करना और इसकी फ्रिक्वेंसी को कम करना हमारे हाथ में है। जो लोग संक्रमित हैं पर बिना लक्षण के हैं, वे दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं इसलिए सावधानी की जरूरत है।’’उपरोक्त विचार रखते हुये एपीआई उत्तराखंड चैप्टर के वाईस प्रेसिडेन्ट एवं स्वामी राम प्रकाश धमार्थ चिकित्सालय निकट अवधूत मंडल, हरिद्वार के वरि-चिकित्सक डा-संजय शाह का कहना है कि अगर शुरुआती लक्षणों की पहचान के बाद ही मरीज को सही इलाज मिल जाए तो जान बच सकती है। ऐसे में कोरोना के लक्षणों की पहचान करना सबसे जरूरी है। वैसे तो आमतौर पर कोरोना के शुरुआती लक्षणों में लोगों को बुखार आ रहा है, लेकिन कई लोग बुखार नहीं आने के बाद भी पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। ऐसे में आप इन लक्षणों से भी कोरोना के होने का पता लगा सकते हैं- खांसी आना-कई लोगों को धूम्रपान और वायरल फ्रलू होने पर भ्ीी खांसी आती है, ऐसे में ये जान पाना मुश्किल हो जाता है कि कहीं ये कोविड का लक्षण तो नहीं है। कोरोना में लगातार खांसी आती है, ऐसे में आपको इसे कोरोना मानकर इलाज करवाना चाहिए। सांस में तकलीफ- अगर आपको सांस से जुड़ी किसी तरह की कोई परेशानी है रही है तो आक्सीमीटर से आक्सीमीटर चेक कर लें, अगर ब्लड आक्सीजन 94 से नीचे आए तो तुरंत डाक्टर से संपर्क करें। कोरोना में कई लोगों को सांस में तकलीफ हो रही है। खासतौर से अस्थमा से पीडित मरीजों को इस बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखना है। लाल आंखें- अगर आपकी आंखें हल्की लाल या गुलाबी हो गई हैं आंख में किसी तरह का लालपन, सूजन या आंख से पानी आता है तो ये भी एक लक्षण हो सकता है। स्वाद और गंध जाना- गंध और स्वाद जाना भी कोरोना का अहम लक्षण है। ये लक्षण बुखार आने से पहले भी दिख सकता है। डा-संजय शाह के अनुंसार कोरोना इन 14 दिनों में किस तरह से आपके शरीर में असर डालता है और इस वायरस को कैसे हरा सकते हैं। इसकेे तीन फेज इस प्रकार से समझ सकते हैं- पहला फेज- ये शुरुआत के चार दिनों तक रहता है। अगर किसी मरीज को कोरोना है और उसकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है तो घबराने की जरूरत नहीं है। शुरुआत के चार दिनों में इस पर विशेष रूप से नजर बनाए रखने की जरूरत है। ये वही समय है जब वायरस आपके गले में रहता है शरीर में फैलने की कोशिश करता है। वायरस इस समय सबसे ज्यादा शक्तिशाली होता है। ऐसे में सेहतमंद खाना खाएं और एक्सरसाइज से अपने फेफड़ों को दुरुस्त रखने की कोशिश करें। इस दौरान अपना आक्सीजन लेवल, बीपी और टेंपरेचर मॉनिटर करना न भूलें और चिकित्सक के सम्पर्क में रहे। दूसरा फेज- ये 5वें दिन से 9वें दिन तक कर सकता है प्रभावित। इस फेज में बुखार कम होने लगता है। इस दौरान प्रोटीन वाला खाना खाना चाहिए। पीठ स्ट्रेच करने वाली एक्सरसाइज करनी चाहिए। इस फेज में ज्यादातर मरीजों को पीठ में काफी दर्द रहता है और पूरे शरीर में दर्द महसूस होता है। इस फेज में स्टीम लेते रहें और अपना तापमान और आक्सीजन लेवल चेक करते रहें। तीसरा फेज- ये 10वें दिन से 14वें दिन तक होता है। इस फेज को रिकवरी फेज भी कहा जा सकता है। इस फेज में आप कोरोना के खतरे से बिल्कुल बाहर आ जाते हैं। इस समय अच्छी डाइट लेनी चाहिए। एक्सरसाइज का समय भी बढ़ा देना चाहिए, जिससे आप अपना स्टेमिना रीगेन कर सकें। इस फेज में आप लोगों से मिलें नहीं, खुद को आइसोलेट रखें और अपना ध्यान रखें।


Comments