Skip to main content

सावधानी,सर्तकता और सजगता अपनाये कोरोना से सुरक्षित रहे-डाॅ0संजय शाह

 

हरिद्वार। ‘‘जिन लोगों ने वैक्सीन लगा ली है, मास्क पहनते हैं, पूरी सावधानी बरतते हैं वह सुरक्षित हैं, लेकिन अगर वायरस को नए मौके मिलेंगे तो केस भी बढ़ेंगे। कोरोना के फैलने के साइज को कम करना और इसकी फ्रिक्वेंसी को कम करना हमारे हाथ में है। जो लोग संक्रमित हैं पर बिना लक्षण के हैं, वे दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं इसलिए सावधानी की जरूरत है।’’उपरोक्त विचार रखते हुये एपीआई उत्तराखंड चैप्टर के वाईस प्रेसिडेन्ट एवं स्वामी राम प्रकाश धमार्थ चिकित्सालय निकट अवधूत मंडल, हरिद्वार के वरि-चिकित्सक डा-संजय शाह का कहना है कि अगर शुरुआती लक्षणों की पहचान के बाद ही मरीज को सही इलाज मिल जाए तो जान बच सकती है। ऐसे में कोरोना के लक्षणों की पहचान करना सबसे जरूरी है। वैसे तो आमतौर पर कोरोना के शुरुआती लक्षणों में लोगों को बुखार आ रहा है, लेकिन कई लोग बुखार नहीं आने के बाद भी पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। ऐसे में आप इन लक्षणों से भी कोरोना के होने का पता लगा सकते हैं- खांसी आना-कई लोगों को धूम्रपान और वायरल फ्रलू होने पर भ्ीी खांसी आती है, ऐसे में ये जान पाना मुश्किल हो जाता है कि कहीं ये कोविड का लक्षण तो नहीं है। कोरोना में लगातार खांसी आती है, ऐसे में आपको इसे कोरोना मानकर इलाज करवाना चाहिए। सांस में तकलीफ- अगर आपको सांस से जुड़ी किसी तरह की कोई परेशानी है रही है तो आक्सीमीटर से आक्सीमीटर चेक कर लें, अगर ब्लड आक्सीजन 94 से नीचे आए तो तुरंत डाक्टर से संपर्क करें। कोरोना में कई लोगों को सांस में तकलीफ हो रही है। खासतौर से अस्थमा से पीडित मरीजों को इस बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखना है। लाल आंखें- अगर आपकी आंखें हल्की लाल या गुलाबी हो गई हैं आंख में किसी तरह का लालपन, सूजन या आंख से पानी आता है तो ये भी एक लक्षण हो सकता है। स्वाद और गंध जाना- गंध और स्वाद जाना भी कोरोना का अहम लक्षण है। ये लक्षण बुखार आने से पहले भी दिख सकता है। डा-संजय शाह के अनुंसार कोरोना इन 14 दिनों में किस तरह से आपके शरीर में असर डालता है और इस वायरस को कैसे हरा सकते हैं। इसकेे तीन फेज इस प्रकार से समझ सकते हैं- पहला फेज- ये शुरुआत के चार दिनों तक रहता है। अगर किसी मरीज को कोरोना है और उसकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है तो घबराने की जरूरत नहीं है। शुरुआत के चार दिनों में इस पर विशेष रूप से नजर बनाए रखने की जरूरत है। ये वही समय है जब वायरस आपके गले में रहता है शरीर में फैलने की कोशिश करता है। वायरस इस समय सबसे ज्यादा शक्तिशाली होता है। ऐसे में सेहतमंद खाना खाएं और एक्सरसाइज से अपने फेफड़ों को दुरुस्त रखने की कोशिश करें। इस दौरान अपना आक्सीजन लेवल, बीपी और टेंपरेचर मॉनिटर करना न भूलें और चिकित्सक के सम्पर्क में रहे। दूसरा फेज- ये 5वें दिन से 9वें दिन तक कर सकता है प्रभावित। इस फेज में बुखार कम होने लगता है। इस दौरान प्रोटीन वाला खाना खाना चाहिए। पीठ स्ट्रेच करने वाली एक्सरसाइज करनी चाहिए। इस फेज में ज्यादातर मरीजों को पीठ में काफी दर्द रहता है और पूरे शरीर में दर्द महसूस होता है। इस फेज में स्टीम लेते रहें और अपना तापमान और आक्सीजन लेवल चेक करते रहें। तीसरा फेज- ये 10वें दिन से 14वें दिन तक होता है। इस फेज को रिकवरी फेज भी कहा जा सकता है। इस फेज में आप कोरोना के खतरे से बिल्कुल बाहर आ जाते हैं। इस समय अच्छी डाइट लेनी चाहिए। एक्सरसाइज का समय भी बढ़ा देना चाहिए, जिससे आप अपना स्टेमिना रीगेन कर सकें। इस फेज में आप लोगों से मिलें नहीं, खुद को आइसोलेट रखें और अपना ध्यान रखें।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं