कोरोना संक्रमण के मामले में हल्की राहत,525 नये मरीजों की पहचान

 हरिद्वार। पिछले कई दिनों के बाद जनपद में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या में गिरावट आयी है। शनिवार को 525 नये कोरोना संक्रमितों की पहचान की गयी। इसके साथ ही जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या 32314 हो गयी है। हलांकि कोविड मरीजों के होम आइसोलेशन की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। चिन्ताजनक बात यह है कि जनपद में एक्टिव केसों की संख्या चार हजार से अधिक हो गयी है। कई दिनों तक लगातार एक हजार से अधिक कोरोना संक्रमितों की संख्या सामने आने के बाद शनिवार को थोड़ी राहत मिली,शनिवार को जनपद में कोरोना संक्रमण के 525 नये मामले दर्ज किए गये। शनिवार को जनपद में 525 नये कोरोना पाॅजिटिव की पहचान की गयी। शनिवार को जनपद के रूड़की क्षेत्र में सबसे अधिक 238 पाॅजिटिव पाये गये है। जनपद में एक्टिव केस चार हजार से अधिक हो गये है। जबकि 43 हजार से अधिक सैपल की रिर्पोट का इंतजार है। शनिवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार जनपद में कोरोना संक्रमण की रफ्रतार में हल्की कमी आयी है। जनपद में शनिवार को 525 नये कोरोना मरीजों की पहचान हुई है, इसके साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 32314 हो गयी है,हलांकि एक्टिव केस 4127 है। 3384 मरीजों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। 390 मरीजों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया गया। शनिवार को 9270 लोगों के सैम्पल कोविड जांच के लिए भेजे गये है। फिलहाल अब तक 43752 व्यक्तियों के सैपल का परिणाम आने बाकी है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ.एस.क.ेझा के अनुसार जनपद में कटेंनेमेंट जोन भी घटकर 09 हो गये है। शनिवार को हरिद्वार अर्बन में 169, बहादराबाद में 83,रूड़की क्षेत्र में 238, भगवानपुर क्षेत्र में 09 के अलावा अन्य राज्यों के 17 पाॅजिटिव केस शामिल है। शनिवार को शिवालिकनगर में 13,बीएचईएल में 24,कनखल में 15 तथा ज्वालापुर में 16 कोरोना पाॅजिटिव पाये गये है। जनपद में अब तक 45 साल से उपर के 187113 व्यक्तियों का टीकाकरण किया जा चुका है।

कोरोना से जनपद में सर्वाधिक 15मौत
हरिद्वार। जनपद में 1 दिन में कोरोना से सबसे ज्यादा 15 मौत हुई है। 5 लोगों ने मेला अस्पताल में अंतिम सांस ली है, जिला कारागार में भी एक कैदी की मौत हुई है भूमानंद अस्पताल और विनय विशाल हॉस्पिटल में तीन-तीन लोगों ने जान गवाई हैं, जय मैक्सवेल अस्पताल में दो और बाबा बर्फानी अस्पताल में एक संक्रमित जिंदगी की जंग हार गए हैं।

Comments