वैष्णव संतो ने कोविड अस्पताल आगजनी के मृतात्माओं को दी श्रद्वांजलि

 हरिद्वार। अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद ने गुजरात के भरूच में अस्पताल में आग लगने से हुई मरीजों की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मां गंगा से उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। बैरागी कैंप स्थित श्रीपंच निर्मोही अखाड़े में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में मृतकों को श्रद्धांजलि देते हुए अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि गुजरात में कोविड सेंटर में आग की घटना हृदय विदारक है। ऐसी घटनाओं की पुनर्रावृत्ति ना हो। राज्य की सरकारों को ठोस कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि आग से जान गंवाने वाले मरीजों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर गुजरात सरकार 10-10 लाख तथा घायलों को 5-5 लाख रूपए दे। साथ ही प्रत्येक मृतक के परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जाए। उन्होंने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह से भी मांग की कि देश के विभिन्न राज्यों के अस्पतालों में मरीजों को अत्याधुनिक उपचार की सुविधाएं युद्ध स्तर पर मुहैया करायी जाएं। श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि कोविड मरीजों की देखभाल ठीक रूप से की जानी चाहिए। अस्पतालों में आग लगने की घटनाएं ना हों। इसको लेकर राज्य के मुख्यमंत्री उचित कदम उठाएं। देश में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। विपत्ती के इस दौर में चिकित्सा व्यवस्था पर सरकारों को विशेषतौर पर फोकस करना चाहिए। कोषाध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि कोविड सेंटर में आग से 18 मरीजों की मौत होना बेहद ही दुखदायी है। असमय काल के ग्रास में समायी आत्माओं को मां गंगा आत्मशांति दे। श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि संकट के इस दौर में देश का संत समाज लोगों के साथ खड़ा है। अध्यक्ष श्रीमहंत रामकृष्ण दास नगरिया महाराज ने कहा कि अस्पताल में आग लगने से मरीजों की मौत होना बेहद दुखदायी है। महंत विष्णुदास, महंत रघुवीर दास, महंत प्रह्लाद दास, महंत दुर्गादास, बाबा हठयोगी, महंत प्रमोद दास, महंत राजेंद्रदास, महंत अवध बिहारी दास, महंत गौरीशंकर दास, महंत मोहनदास खाकी, महंत भगवान दास खाकी, महंत अर्जुन दास, महंत अगस्त दास, महंत नरेद्र दास, महंत महेश दास, महंत नागा सुखदेव दास, महंत रामदास, महंत रामजी दास, ब्रह्माण्ड गुरू अनन्त महाप्रभु, महंत रामकिशोर दास शास्त्री आदि संतों ने भी मरीजों की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। 


Comments