Skip to main content

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए तीर्थनगरी को मिलेगी इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सौगात

 जनपद प्रभारी सह पर्यटन मंत्री ने अधिकारियों को दिए कारवाई करने के निर्देश

हरिद्वार। प्रदेश के सिंचाई एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने प्रेमनगर आश्रम में पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर, जिलाधिकारी सी0 रविशंकर के साथ उत्तराखण्ड से अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानों के लिए हरिद्वार और देहरादून में एयपोर्ट बनाने को लेकर एक महत्वपूर्णं बैठक की। बैठक में हरिद्वार व निकटतम क्षेत्र में इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए भूमि तलाशे जाने के संबंध में चर्चा की गयी। एयरपोर्ट के लिए हरिद्वार में भूमि चिन्हित किये जाने को जिलाधिकरी की अध्यक्षता में शीघ्र ही एक कमेटी गठित की जायेगी, जो नियमानुसार भूमि चिन्हित कर ऐवीएशन विभाग की अधिकारियों को जानकारी देगी। कमेटी इंटरनेशनल एयरपोर्ट की संभावनाओं के संबंध में 5 किमी लंबी एवं आधा किमी चैड़ी पट्टी जमीन की खोज करेगी। एयरपोर्ट आने वाले 2030 तक की अवधि मांग और भविष्य की सम्भावना को देखते हुए तैयार किया जायेगा। इस एयपोर्ट को इंटरनेशनल उड़ान के लिए भी प्लान किया जायेगा। जिसके जरिए यात्री सीधे देवभूमि पहुंच सकेंगे। इससे आने वाले समय में रोजगार के नये अवसर उत्पन्न होंगे। यह दुनिया को आकर्षित करने एवं हरिद्वार जनपद के वैभव को बढ़ाने में सहायक सिद्ध होगा। यहां से बहुत सी फ्लाइट संचालित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि एयर बस 380 एवं बोइंग 777 जैसे बड़े विमान भी यहां उतर सकें, इन संभावनाओं को तलाश जा रहा है। इसके बाद मंत्री चंडीघाट स्थित मोक्षधाम व नमामि गंगे घाट का निरीक्षण करने पहुंचें। उन्होंने नमामि गंगे घाट को पयर्टन की दृष्टि से और अधिक आकर्षक टूरिस्ट प्लेस के रूप में स्थापित करने के लिए सचिव प्यर्टन, जिला पर्यटन अधिकारी, वैपकोस के अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने यहां के लिए हरिद्वार के धार्मिक महत्व, गंगा और उत्तरखण्ड की थीम पर थ्री डी प्रोजेक्शन, लाइट एंड फांउटेन शाॅ आदि की रूपरेखा तैयार शीघ्र अवगत कराने के भी निर्देश दिये, जिसे जल्द ही अमल में लाया जायेगा। उन्होंने मेला अस्पताल का भी निरीक्षण किया और यहां काम करे चिकित्सकांे, मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मियों को संकट काल में अपनी सेवायें देने के लिए धन्यवाद दिया और उत्साहवर्धन किया। उन्हेांने कहा कि अस्पताल की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाये। उन्होंने बताया कि लोक कलाकारों के प्रति भी सरकार पूरी तरह संवेदनशील है और हर सम्भव प्रयास सहायता कलाकारों की जायेगी। लोक कलाकार प्रकाश कुंवर गढ़वाली का इलाज सरकार करा रही है। लोक कलाकारों की मदद करने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। बैठक में भाजपा जिलाध्यक्ष  जयपाल सिंह चैहान भी उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक