बदहाल सफाई व्यवस्था के खिलाफ भाजपा पार्षदों का मेयर और एनएमए के खिलाफ धरना

 हरिद्वार। कुंभ मेले के बाद और ज्यादा चरमराई सफाई व्यवस्था से नाराज होकर भाजपा पार्षदों ने नगर निगम में मेयर और नगर आयुक्त के खिलाफ धरना दिया। दोनों के खिलाफ पार्षदों ने जमकर नारेबाजी कर गंभीर आरोप लगाए। अधिकारियों ने पार्षदों को समझाने का प्रयास किया। इसके बाद पार्षदों ने अधिकारियों के आश्वासन पर धरना स्थगित कर दिया। मंगलवार को भाजपा पार्षद दल ने नगर निगम पहुंचकर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद सभी धरने पर बैठ गए। नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल गुड्डू ने कहा कि कुंभ मेला खत्म होने के बाद कनखल क्षेत्र में सफाई व्यवस्था पूरी तरह पटरी से उतर गई है। जगह-जगह गंदगी के अंबार लगे हुए हैं। मेयर और नगर आयुक्त शहर की सफाई व्यवस्था को सुधारने में असफल साबित हुए हैं। जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। कूड़े के ढ़ेरों से दुर्गंध के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है। कोरोना काल में सफाई न होने से लोगों को संक्रमण का और ज्यादा डर सता रहा है। सफाई तो दूर सेनेटाइजेशन भी नहीं किया जा रहा है। प्रशांत सैनी ने कहा कि पिछले काफी समय से सफाई व्यवस्था बदहाल पड़ी हुई है। कुंभ मेला प्रारंभ होने के बाद सफाई व्यवस्था में थोड़ा सुधार आया था। लेकिन कुंभ का समापन होने के बाद से कनखल से कूड़ा ही नहीं उठ रहा है। शहर के अन्य इलाकों का हाल भी बुरा है। उन्होंने आरोप लगाया कि जगजीतपुर में निगम की भूमि पर सीएनजी स्टेशन की अनुमति दे दी गई है। लेकिन वहां से निगम को किराया तक नहीं मिल रहा है। कोई आमदनी नहीं हो रही है। वहीं पार्षदों के धरने पर बैठने के बाद सहायक नगर आयुक्त महेंद्र सिंह यादव व अन्य अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर उन्हें शांत कराया। कार्यालय ले जाकर उन्हें समस्या का आश्वासन दिया। जिसके बाद पार्षदों का गुस्सा शांत हो पाया है। धरना देने वालों में अनिरुद्ध भाटी, राजेकृष्ण शर्मा, नितिन माना शर्मा, विनीत जौली, शुभम मंदौला, सचिन अग्रवाल आदि शामिल रहे।


Comments