कोरोना मरीजो को स्वास्थ्य लाभ दिलाने के लिए योगी रजनीश ने शुरू किया ’’स्प्रैड पॉजिटिविटी

 हरिद्वार। कोरोना महामारी के चलते योगी रजनीश संस्थापक ऊँ आरोग्यं योग मंदिर की एक अनूठी पहल सामने आई है योगी रजनीश ने कोरोना मरीजो को स्वास्थ्य लाभ दिलाने के लिए एक सकारात्मक प्रयास ’’स्प्रैड पॉजिटिविटी’’ अभियान शुरू किया है, जिसके अंतर्गत उन्होंने आज मेला अस्पताल में कोरोना मरीजो के मध्य जाकर उनको मानसिक रूप से प्रबल कर उनके भीतर एक सकारात्मक सोच उत्पन्न करने का प्रयास किया। साथ ही उन्होने रोगीयों को कहा कि सकारात्मक सोच हर मुश्किल को आसान बना देती है तथा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि करती है और जब रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है तो बीमारी धीरे-धीरे कम होकर अंततः पूर्ण रूप से समाप्त हो जाती है। योगी रजनीश ने मरीजों को योग की कुछ सरल विधियां जैसे गहरी श्वास लेने के तरीके मुद्राएं, लाफिंग तथा ध्यान आदि के विषय में भी जानकारी दी तथा बताया कि इन सभी क्रियाओं को दवाइयों के साथ आसानी से अपना कर इस रोग से शीघ्र मुक्त हुआ जा सकता है। साथ ही उन्होंने सकारात्मकता का प्रसार करते हुए कहा कि जिस प्रकार हम किसी प्रतियोगिता में हारने नहीं अपितु जीतने का प्रयास करते हैं उसी प्रकार हमको इस रोग को हराकर जल्द से जल्द स्वस्थ होना है। योगी रजनीश ने ’’स्प्रैड पॉजिटिविटी’’ के विषय में बताते हुए कहा कि उन्होंने जिलाधिकारी सी. रविशंकर से वार्ता की और उनको सुझाया कि जिस प्रकार करोना महामारी में मृत्यु दर बढ़ रही है उसका कारण आज समाज में चारों तरफ एक चिंता व्याप्त होना है जिसके चलते मानसिक दबाव बढ़ता जा रहा है। दिन-रात करोना के बारे में सुनकर तथा आसपास की परिस्थितियों को देखकर चारों ओर नकारात्मकता व्याप्त हो रही है और जो व्यक्ति इस बीमारी से ग्रस्त होकर अकेला परिवार से दूर अस्पताल में है वह और अधिक तनाव से ग्रस्त होकर मानसिक रूप से कमजोर होता जा रहा है। किंतु यदि हम रोगी को नकारात्मकता से सकारात्मकता की तरफ ले जाएं तो हम उनको जल्दी स्वस्थ होने के लिए भी प्रेरित कर सकते हैं। जिलाधिकारी ने इस विचार को सहर्ष स्वीकार करते हुए योगी रजनीश को मेला अस्पताल से स्प्रैड पोजेटिविटी मुहिम को प्ररम्भ करने के लिए कहा। योगी रजनीश ने आगे बताया कि स्प्रैड पॉजिटिविटी के अंतर्गत निरंतर सकारात्मकता का प्रचार प्रसार आगे भी चलता रहेगा जिससे हमारा समाज जल्दी करोना मुक्त होकर खुशहाली की ओर वापस लौट सकेगा।


Comments