कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर किसानों का धरना जारी

 हरिद्वार। डाॅ मनोज कुमार- भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) के प्रदेश अध्यक्ष विकास सैनी ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार ने मंत्री, सांसद और विधायकों की तनख्वाह तो दोगुनी कर दी है उसी तरह सरकार किसानों की फसलों के दाम बढ़ाकर उनकी आय दोगुनी करे। सरकार किसानों को कागजों में नहीं धरातल पर बताए कि कितने किसान उनके कृषि कानूनों को उचित कदम बता रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर बहादराबाद टोल प्लाजा पर किसान तीन दिनों से कृषि कानूनों को निरस्त करने को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं। प्रदेश अध्यक्ष सैनी टोल प्लाजा बहादराबाद में चल रहे किसानों के अनिश्चितकालीन धरने पर पहुचे थे। उन्होंने कहा कि किसान रात दिन अपनी जान की परवाह किए बिना खेतों में मेहनत कर फसलें उगाते हैं। उसके बाद जब किसान फसल और सब्जियां लेकर मंडी पहुंचता है तो उनकी फसलों के दामों में भारी गिरावट कर दी जाती है। और बाजार में उनके दाम आसमान छू रहे होते हैं। तब किसान खुद को ठगा महसूस करता है। भारतीय किसान यूनियन संरक्षक रामपाल सिंह ने कहा कि सरकार किसान और मजदूर विरोधी है। सरकार जबरन कृषि कानूनों को किसानों पर थोप रही है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार इन कानूनों को वापस नहीं लेती तब तक किसान धरना स्थल से हटने वाले नहीं हैं। भाकियू जिलाध्यक्ष विजय शास्त्री ने कहा कि दस जून से पहले दिल्ली में किसानों की एक बैठक आहूत की गई है। बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। जिनमें से एक मुद्दा भगवानपुर टोल प्लाजा पर अनिश्चितकालीन धरने का है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में बहादराबाद टोल प्लाजा पर किसान मौजूद हैं। ठीक उसी तरह भगवानपुर टोल प्लाजा पर धरने की रूपरेखा तैयार की जाएगी। धरने में राव तजम्मुल, राजेंद्र सिंह, विजय शास्त्री, अभिषेक शर्मा, अर्जुन सैनी, किरण पाल, शुक्रपाल सिंह, राहुल, अरविंद कुमार, नीरज कुमार, टिंकू, विनोद प्रजापति, इंद्रपाल सिंह, नितिन, जावेद, रंजन सैनी, गुलजार राजपूत, मोहन त्यागी, चमन लाल शर्मा, इसरार प्रधान, फिरदोस, शोएब अंसारी, मोहित चैधरी, अभिषेक शुभम, आदि किसान धरने में शामिल रहे।


Comments