श्रीपंच निर्मोही अनी अखाड़े में कोरोना नाशक महायज्ञ का आयोजन

 हरिद्वार। देश दुनिया से वैश्विक महामारी कोरोना की समाप्ति हेतु बैरागी कैंप स्थित श्रीपंच निर्मोही अनी अखाड़े में कोरोना नाशक महायज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। एक माह तक चलने वाले महायज्ञ के शुभारंभ पर जगद्गुरू रामानंदाचार्य स्वामी अयोध्याचार्य महाराज ने कहा कि संपूर्ण भारत में धर्म स्थापना एवं कोरोना महामारी की समाप्ति हेतु यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। जिससे देश में धर्म का सकारात्मक प्रचार हो और कोरोना महामारी से संपूर्ण विश्व को निजात मिले। उन्होंने सभी सनातन धर्म प्रेमियों से अपील करते हुए कहा कि यज्ञ में शामिल होकर धार्मिक अनुष्ठान का लाभ लेते हुए विश्व कल्याण की कामना करें और मानवता को भारतीय संस्कृति का ज्ञान पे्रषित करें। अखिल भारतीय श्रीपंच निर्मोही अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि जब कभी समाज में असुरता की मात्रा बढ़ जाए। तो उसका उपचार यज्ञीय प्रायोजनों से और कुछ नहीं हो सकता। यज्ञ से निकलने वाला पवित्र धुंआ जहां जहां आवरण बनाता है। वहां का संपूर्ण वातावरण सात्विक एवं भक्तिमय हो जाता है। उन्होंने कहा कि धार्मिक अनुष्ठानों के माध्यम से प्रत्येक व्यक्ति का जीवन यज्ञ के समान पवित्र, प्रखर एवं प्रकाशमान हो। संत समाज सभी के लिए ऐसी कामना करता है। पतित पावनी मां गंगा की कृपा से संपूर्ण विश्व को कोरोना महामारी से जल्द निजात मिलेगी। महामण्डलेश्वर स्वामी रघुनंदन दास बापू महाराज ने कहा कि धार्मिक अनुष्ठानों से देश की दिशा और दशा बदलती है। व्यक्ति को विषम परिस्थतियों में भी अपना संकल्प और मनोबल अग्नि शिखा की तरह ऊंचा ही रखना चाहिए। यज्ञ आयोजनों में लौकिक सुख समृद्धि को बढ़ाने की विज्ञान सम्मत परंपरा सन्नहित है। इसलिए समय निकालकर प्रत्येक व्यक्ति को यज्ञ एवं धार्मिक अनुष्ठानों में शामिल होकर स्वयं को कृतार्थ करना चाहिए। श्रीपंच निर्वाणी अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास महाराज एवं महंत रामजीदास महाराज ने कहा कि जब जब देश पर कोई भी विपदा आयी है। संत समाज ने सदैव अग्रणी भूमिका निभाकर सरकार का साथ दिया है। कोरोना महामारी के इस संकट काल में भी संत समाज देश के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। उन्होंने भगवान श्रीराम से प्रार्थना करते हुए कहा कि संपूर्ण मानव जाति को जल्द से जल्द इस महामारी से मुक्ति मिले और विश्व में खुशहाली व्याप्त हो। इस अवसर पर महंत रघुवीर दास, महंत बिहारी शरण, महंत मनीष दास, महंत रामदास, महंत नागा सुखदेव दास, महंत जगदीश दास, महंत राजेंद्र दास, महंत केशव दास, संत सेवक दास, महंत धर्मदास, महंत सुरेंद्र ब्रह्मचारी, महंत पे्रमदास, महंत विष्णु दास, महंत अगस्त दास, महंत महेश दास, महंत नरेंद्र दास आदि संतजनों ने धार्मिक अनुष्ठान में विश्व कल्याण के लिए आहुति डाली। 


Comments