स्कूली बैग गंगा घाटों पर रखकर की बच्चों के बेहतर भविष्य की कामना

 

हरिद्वार। लाॅकडाउन में मंदी की मार झेल रहे व्यापारियों ने बच्चो के स्कूल बस्ते मां गंगा के चरणों मे रखकर बच्चों के भविष्य के लिए प्रार्थना की। प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के निर्देश पर युवा व्यापार मण्डल के जिला अध्यक्ष संदीप शर्मा के संयोजन में विष्णु घाट पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान व्यापारियों ने कहा कि लॉकडाउन के कारण लगातार व्यापारिक प्रतिष्ठान लगातार बंद चल रहे हैं। कामकाम ठप्प होने के कारण व्यापारी बच्चो की स्कूल फीस भी नहीं जमा करा पा रहे हैं। संदीप शर्मा ने कहा कि व्यापारी बेहद कठिन आर्थिक परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं। सरकार किसी प्रकार की कोई राहत या व्यापार खोलने की छूट नहीं दे रही है। व्यापारी बच्चों की स्कूल फीस तक नहीं जमा कर पा रहे हैं। इस सरकार से तो किसी प्रकार की कोई उम्मीद नहीं बची है। संदीप शर्मा ने कहा कि वैसे तो सरकार देश को यूरोपीय मॉडल में बदलना चाहती है। परंतु वहां की जो व्यवस्था है। उसमें बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य सब सरकार की जिम्मेदारी होती है। यूरोप की सरकारें बच्चों को निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध कराती हैं। लेकिन हमारी सरकार आंखें मूंदे बैठी है। आज देश का भविष्य व्यापारियों की आर्थिक तंगी की वजह से अंधकार में दिखाई दे रहा है। परंतु यह सरकार किसी भी प्रकार की कोई राहत देने की पहल नहीं दिखा रही है। प्रांतीय नेता मुकेश भार्गव और मनोज सिंघल ने कहा कि इस लॉकडाउन में व्यापारियों की आय बंद है। लेकिन खर्च लगातार जारी है। स्कूल फीस जमा कराने का दबाव बना रहे हैं। फीस जमा नहीं कराने पर ऑनलाइन क्लास से बच्चों को हटा दिया जाता है। शिवालिक नगर अध्यक्ष धर्मेंद्र विश्नोई ने कहा कि अभिभावकों ने किसर प्रकार से इस ऑनलाइन पढ़ाई के लिए लैपटॉप और स्मार्टफोन की व्यवस्था तो कर दी। लेकिन सरकार की तरफ से कोई राहत न होने से स्कूल अपनी मनमानी पर उतारू है। शहर अध्यक्ष कमल बृजवासी, महामंत्री प्रदीप कालरा व राजीव पाराशर ने कहा कि व्यापारियों को अब सरकार से किसी प्रकार की उम्मीद नहीं बची है। ऐसे में बच्चों का भविष्य मां गंगा की कृपा पर निर्भर हो गया है। मां गंगा से प्रार्थना है कि सरकार को सद्बुद्धि दे। ताकि वह जनता और व्यापारियों की परेशानी को समझ सके। जिला अध्यक्ष सुरेश गुलाटी व जिला महामंत्री संजीव नैयर ने कहा कि व्यापारियों के प्रतिष्ठान बंद है और सरकार की आय के सभी साधन खुले हुए है। ऐसे में सरकार को व्यापारियों के परिवारों के भरण-पोषण और उनके बच्चों की स्कूली शिक्षा की जिम्मेवारी लेनी चाहिए। इस दौरान मुकेश भार्गव, मनोज सिंघल, विपिन शर्मा, विकास शर्मा, वेद अरोड़ा, राजन मेहता, मदन गोपाल तलवार, राजू बक्शी, विष्णु शर्मा, डा.संदीप कपूर, विपिन गुप्ता, विक्की तनेजा, राजेश पुरी, नागेश वर्मा, संजय अरोड़ा, विजय बंसल, योगेश अरोड़ा, विनीत चंदवानी, भगवान दास, गगन बंसल, सचिन बंसल, विकास गुप्ता, जय वीर, अमित गोयल, मनीष नेगी, सागर अरोड़ा, जितेंद्र कोरी, मोहन अरोड़ा, हरीश पुरी, गुलाब सिंह, हरद्वारी लाल शर्मा, गोपाल चैरसिया, कमल अरोड़ा, जोगेंदर अरोड़ा, तुलसी अरोड़ा, गंगाराम, संतोष गुप्ता, शरद गुप्ता, बिट्टू, राजकुमार अरोड़ा, पुनीत गुप्ता, रमन भूटानी, अनुज तोमर, पुनीत भूटानी, अनिल माटा, धनीराम, सतपाल छाबड़ा, सोनू मिश्रा, राजू ठाकुर, दीपक बक्शी, राजकुमार चैहान, गजेंद्र सैनी, वैभव,दिनेश अरोड़ा, धीरज पचभैया, रितेश अग्रवाल, पंकज भारद्वाज, सूरज खन्ना, संदीप अग्रवाल, दीपक कश्यप, सूरज अरोड़ा, मनोज कुमार आदि रहे।


Comments