Skip to main content

त्याग और तपस्या की साक्षात प्रतिमूर्ति थे ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास -महंत महेश्वरदास


 हरिद्वार। ब्रहमलीन महंत ईश्वरदास महाराज त्याग और तपस्या की साक्षात प्रतिमूर्ति थें। जिन्होंने सदैव भक्तों को ज्ञान की प्रेरणा देकर उनके कल्याण का मार्ग प्रशस्त किया। उक्त उद्गार श्रीमहंत महेश्वरदास महाराज ने चेतन देव कुटिया में आयोजित ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज के श्रद्धांजलि समारोह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए श्रीमहंत महेश्वरदास दास महाराज ने कहा कि सनातन धर्म के प्रचार प्रसार में ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। सभी को उनके दिखाए मार्ग का अनुसरण करते हुए देश व समाज के उत्थान में अपना योगदान देना चाहिए। श्रीमहंत रघुमुनि महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज संत समाज के प्रेरणा स्रोत थे। अध्यात्म व गंगा के प्रति उन्हें बेहद लगाव था। ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज भक्तों को सदैव गंगा की पवित्रता बनाए रखने की प्रेरणा देते थे। उन्होंने कहा कि युवा संतों को उनके दिखाए मार्ग पर चलते धर्म व अध्यात्म के प्रचार प्रसार में योगदान करना चाहिए। महामण्डलेश्वर स्वामी हरिचेतनानन्द महाराज व महंत निर्मल दास महाराज ने कहा कि संत समाज सनातन संस्कृति का संवाहक है। देश दुनिया में सनातन संस्कृति का प्रचार प्रसार संत महापुरूषों द्वारा किया जाना प्रशसंनीय है। महंत संतोष दास महाराज ने अपने गुरूदेव ब्रह्मलीन महंत ईश्वरदास महाराज को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि पूज्य गुरूदेव ज्ञान का अथाह सागर थे। गुरूदेव से प्राप्त ज्ञान व उनकी शिक्षाओं का अनुसरण करते हुए उनके अधूरे कार्यो को आगे बढ़ाया जा रहा है। चेतनदेव कुटिया के परमाध्यक्ष महत मोहनदास दास महाराज ने कहा कि महंत ईश्वरदास महाराज के अचानक ब्रह्लीन होने से संत समाज को अपूर्णीय क्षति हुई है। सनातन धर्म के उत्थान व समाज कल्याण में उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा। इस अवसर पर महंत जसविन्दर सिंह, महंत दामोदर दास, महंत कमलदास, महंत अद्वैतानन्द, महंत मोहन सिंह, महंत दुर्गादास, महंत श्यामप्रकाश, म.म.संतोषानंद देव, स्वामी रविदेव शास्त्री, स्वामी दिनेश दास, स्वामी हरिहरानंद, म.म.स्वामी भगवतस्वरूप, म.म.स्वामी कपिलमुनि, महंत प्रेमदास, संत जगजीत सिंह, महंत तीरथ सिंह, महंत सुमित दास, महंत सूजरदास, महंत शिवानंद, महंत श्रवण मुनि, महंत सुतिक्ष्ण मुनि, महंत दर्शनदास, महंत जयेंद्र मुनि आदि संत महापुरूष मौजूद रहे। 


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है- हीरा सिंह बिष्ट

  हरिद्वार। कमल मिश्र- हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं की एक बैठक राज विहार फेस थर्ड जगजीतपुर हरिद्वार में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता हिंदू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष संजय चैहान एवं संचालन महानगर महामंत्री चंद्रप्रकाश जोशी ने किया। बैठक में मुख्य अतिथि युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट एवं जिला अध्यक्ष मनीष चैहान रहे। इस अवसर पर हिंदू जागरण मंच संगठन में कुछ नए युवाओं को दायित्व सौंपकर फूल मालाओं से उनका स्वागत किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य प्रदेश महामंत्री हीरा सिंह बिष्ट ने सर्वप्रथम सभी लोगों को होली की बधाई दी और संगठन में शामिल किए गए नए कार्यकर्ताओं का फूल मालाओं से स्वागत किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारा भारत  देश एक हिंदूवादी राष्ट्र है। हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है। लेकिन आज वर्तमान समय में देखने को मिल रहा है कि हमारी हिंदुत्व एकता धीरे-धीरे समाप्त होती जा रही है। हमारा हिंदू राजनेताओं की राजनीति के जाल के कारण भटक चुका है हमको भारत के सभी हिंदू समाज में एकता करना ही हमारा मूल उद्देश्य है। हमें किसी राजनीतिक दल एवं पार्टी से को