Skip to main content

‘देवभूमि उत्तराखण्ड की पवित्रता एवं संस्कृति का संरक्षण के लिए जनसंख्या कानून जरूरी

 हरिद्वार। भूमा निकेतन पीठाधीश्वर शंकरं शंकराचार्य, अनन्तश्री विभूषित, स्वामी अच्युतानन्द तीर्थ जी महाराज ने देवभूमि उत्तराखण्ड की पवित्रता एवं संस्कृति के संरक्षण हेतु मुख्यमंत्री, उत्तराखण्ड देव भूमि है । इसकी भौगोलिक परिस्थिति भी विशिष्ठ है। इसकी कुछ सीमा दुश्मन देश चीन से लगा है। इसके एक तरफ उत्तर प्रदेश है और दूसरी तरफ हिमाचल प्रदेश है। गढ़वाल व कुमायुँ के महाराजा द्वारा भी इस भूमि को देवभूमि बताया गया। इस पवित्र भूमि पर ऋषि-मुनि, सिद्ध-महापुरुष व योगी लोग तपस्या करते रहे है। बद्रीनाथ, केदारनाथ, जागेश्वर धाम एवं पाताल भुवनेश्वरी के प्रसिद्ध मन्दिर भी इसी देवभूमि में अवस्थित है। गढ़वाल रेजीमेन्ट, कुमायुं रेजीमेन्ट के यौद्धा, जो मातृ भूमि के लिए शहीद हुए है,वें भी यहाँ रहे है। यद्यपि हमारा संविधान धर्म निरपेक्ष है तथापि यहाँ के निवासी धर्म निरपेक्ष न होकर धर्म पथगामी है। इस भूमि की पवित्रता एवं संस्कृति की रक्षा की दृष्टि से उत्तराखण्ड प्रदेश में भी जनसख्ंया कानून एवं लव जिहाद के विरुद्ध कानून बनाना, इस प्रदेश की भौगोलिक परिस्थिति को दृष्टिगत रखते हुए आवश्यक है। देवभूमि होने के कारण विश्वप्रसिद्ध सिद्ध मन्दिरों एवं पवित्र नदियों का यह उद्यगम स्थल है। इन सबकी सांस्कृतिक रक्षा के लिए जनसंख्या कानून और लव जिहाद के विरुद्ध कानून बनाने की कार्यवाही अति आवश्यक है। उन्होने कहा कि यह परम आवश्यक है कि पवित्र नगरी हरिद्वार, ऋषिकेश, देवप्रयाग, बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनौत्री आदि स्थानों की 25 किलोमीटर तक की परिधि के क्षेत्र में यहाँ की मर्यादाओं को दृष्टिगत रखते हुए किसी भी मुसलमान, ईसाई व ऐसे अन्य धर्मावलम्बियों का स्थाई रुप से बसने का अधिकार भी कानून बनाकर प्रतिबन्धित किया जाना प्रदेश के हित में अति आवश्यक है अन्यथा लवजिहाद और अनियंत्रित जनसख्ंया इन तीर्थों की भूमि पर आवासित धार्मिक जनता, जो इन मन्दिरों व पवित्र नदियों को अपना सर्वस्व समर्पित करते है, के लिए भविष्य में कठिनाइयाँ उत्पन्न हो सकती है। इस दृष्टि से यहाँ के धर्मावलम्बी निवासियों को ही इस भूमि पर बसने का अधिकार होना चाहिए। ऐसी अवस्था में केन्द्र व प्रदेश सरकार का यह कर्त्तव्य बनता है कि यहाँ की पवित्र भूमि, धर्म परायण जनता, वनों की रक्षा, नदियों के अस्तित्व, प्रकृति के सौन्दर्य और पर्यावरण के मूल आधार की रक्षा को अक्षुण रक्खा जाये और इसके लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून व लव जिहाद पर रोक लगाने सम्बन्धी कानून बनाना अति आवश्यक है ।


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है- हीरा सिंह बिष्ट

  हरिद्वार। कमल मिश्र- हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं की एक बैठक राज विहार फेस थर्ड जगजीतपुर हरिद्वार में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता हिंदू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष संजय चैहान एवं संचालन महानगर महामंत्री चंद्रप्रकाश जोशी ने किया। बैठक में मुख्य अतिथि युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट एवं जिला अध्यक्ष मनीष चैहान रहे। इस अवसर पर हिंदू जागरण मंच संगठन में कुछ नए युवाओं को दायित्व सौंपकर फूल मालाओं से उनका स्वागत किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य प्रदेश महामंत्री हीरा सिंह बिष्ट ने सर्वप्रथम सभी लोगों को होली की बधाई दी और संगठन में शामिल किए गए नए कार्यकर्ताओं का फूल मालाओं से स्वागत किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारा भारत  देश एक हिंदूवादी राष्ट्र है। हमारा हिंदुत्व ही हमारी पहचान है और धरोहर है। लेकिन आज वर्तमान समय में देखने को मिल रहा है कि हमारी हिंदुत्व एकता धीरे-धीरे समाप्त होती जा रही है। हमारा हिंदू राजनेताओं की राजनीति के जाल के कारण भटक चुका है हमको भारत के सभी हिंदू समाज में एकता करना ही हमारा मूल उद्देश्य है। हमें किसी राजनीतिक दल एवं पार्टी से को