Skip to main content

पौराणिक पवित्र छड़ी यात्रा का बद्रीनाथ धाम में पूजा अर्चना कर किया प्रथम चरण पूर्ण,

 


हरिद्वार। श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़े की पौराणिक पवित्र छड़ी यात्रा ने बद्रीनाथ धाम मे पूजा अर्चना कर अपना प्रथम चरण पूरा कर लिया है। बद्रीनाथ धाम पहुचने से पूर्व अखाड़े के अन्र्तराष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत प्रेमगिरि महाराज,प्रमुख छड़ी महंत श्रीमहंत शिवदत्त गिरि,श्रीमहंत विशम्भर भारती,श्रीमहंत पुष्करराज गिरि,श्रीमहंत कुशपुरी के नेतृत्व में साधु-संतो का जत्था जोशीमढ पहुचा,जहां आद्य जगद्गुरू शंकराचार्य मठ के गादीपति स्वामी मुकुन्दानंद ब्रहमचारी ने पवित्र छडी की पूजा अर्चना कर सभी संतो का स्वागत किया। पूजा अर्चना के पश्चात पवित्र छड़ी पवित्र कल्प वृक्ष के दर्शनों को पहुची। इसी कल्पवृक्ष के नीचे जगद्गुरू शंकराचार्य ने एक गुफा में साधना कर ग्रंथों की रचना की थी। पवित्र छड़ी को शंकराचार्य गुफा के दर्शनों के पश्चात स्वामी मुकुन्दानंद ब्रहमचारी की अगुवाई में सभी साधु-संत पवित्र छड़ी के साथ नगर का भ्रमण करते हुए हर हर महादेव के जयघोष के साथ नरसिंहमन्दिर पहुचे। भ्रमण के दौरान स्थानीय नागरिको ने पवित्र छड़ी व साधु संतो का जगह जगह स्वागत किया व संतो का अर्शीवाद प्राप्त किया। नरसिंह मन्दिर में तीर्थ पूरोहितों ने पवित्र छड़ी की पूजा अर्चना कर सभी को भगवान बद्रीश का आर्शीवाद दिया और इस पावन पवित्र छड़ी यात्रा के सफल होने की भगवान से प्रार्थना की। स्वामी मुकुन्दानंद ब्रहमचारी ने बताया इस दशनामी छड़ी यात्र की परम्परा ढाई हजार वर्ष पूर्व आद्यजगद् गुरू शंकराचार्य महाराज ने सनातन धर्म  की स्थापना तथा गैर सनातनी विधर्मियों के उन्मूलन के लिए चलाई थी ओर पूरे भारतवर्ष में दिग्विजय यात्रा के माध्यम से सनातन धर्म का वर्चस्व कायम कर दिया था। जूना अखाड़े की यह पवित्र छड़ी इसी परम्परा का अनुसरण है। इस यात्रा का उददे्श्य भी सनातन धर्म की स्थापना देवभूमि उत्तराखण्ड में वर्ग विशेष की घुसपैठ को रोकना तथा प्रदेश से हरहे पलायन पर अंकुश लगाना है। शंकराचार्य मठ में रात्रि विश्राम के पश्चात शनिवार को पवित्र छड़ी गोविन्द घाट से घांधरियों होते हुए लक्ष्मण कुण्ड की ओर रवाना हुयी,लेकिन मार्ग अवरूद्व होने के कारण वही से लोकपाल पर्व के दर्शन करते हुए प्रतीकात्मक पूजा अर्चना की। पौराणिक आख्यानों के अनुसार लक्ष्मण कुण्ड मंे भगवान लक्ष्मण ने तपस्या की थी। यहां से पाण्डूकेश्वर मन्दिर पवित्र छड़ी पहुची। इस पौराणिक मन्दिर की स्थापना पाण्डवों ने की थी। महाभारत युद्व की समाप्ति के पश्चात पांडव पश्चताप करने के लिए हिमालय में आए थे इसी स्थान पर उन्होने योगध्यान किया था। इसलिए इसे योग ध्यान बद्री भी कहते है। पाण्डूकेश्वर मन्दिर में पूजा अर्चना के बाद पवित्र छड़ी गढ़वाल मण्डल की यात्रा के अन्तिम पड़ाव में शनिवार को बद्रीनाथ धाम पहुची। जहां महामण्डलेश्वर स्वामी बालकदास ने अपने अनुयायियों के साथ पवित्र छड़ी की पूजा अर्चना कर स्वागत किया। शाम लगभग 4बजे महामण्डलेश्वर बालकदास महाराज स्वयं पवित्र छड़ी को लेकर साधुओं के जत्थे सहित बाबा बद्रीनाथ के दर्शनों व पूजा अर्चना के लिए मन्दिर पहुचे। मन्दिर के पूरोहितों,पुजारियों व बद्री केदार समिति के अधिकारियों ने भगवान बद्रीनाथ के चरण में पवित्र छड़ी का स्पर्श कराकर पूजा अर्चना कर सभी को भगवान का आर्शीवाद दिया। पवित्र छड़ी को बद्रीनाथ भगवान को समर्पित अंगवस्त्र पहनाया। श्रीमहंत प्रेमगिरि महाराज ने बताया पौराणिक पवित्र छड़ी यात्रा का प्रथम चरण पूरा हो गया। अपने प्रथम चरण में पवित्र छड़ी हरिद्वार मायादेवी मन्दिर से प्रारम्भ हुयी थी। अपनी दस दिवसीय यात्रा के दौरान पवित्र छड़ी लाखामण्डल, यमुनोत्री धाम, गंगोत्री, केदारनाथ, त्रिजुगीनारायण, उत्तरकाशी में काशी विश्वनाथ मन्दिर, ओमकारेश्वर महादेव उखीमढ, तृंगनाथ, अनुसूईया मण्डल कोटेश्वर महादेव रूद्रप्रयाग,लक्ष्मणकुण्ड, व्यास गुफा, सीतामढ़ी सहित कई अन्य पौराणिक तीर्थो ,मठ-मन्दिरों में पूजा अर्चना के लिए गयी। सभी जगह स्थानीय नागरिकोें ने पवित्र छड़ी पर पुष्पवर्षा कर साधु-संतो का स्वागत किया। उन्होने कहा रविवार को पवित्र छड़ी कर्णप्रयाग पहुचेगी, जहां से कुमायूॅ मण्डल की यात्रा प्रारम्भ की जायेगी। 


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल