Skip to main content

श्रीमद् भागवत कथा भवसागर की बैतरणी है- महामंडलेश्वर स्वामी सुरेश मुनि

 


हरिद्वार। श्रीमद् भागवत कथा पतित पावनी मां गंगा की भांति अविरल बहने वाली ज्ञान की धारा है। जिसे जितना ग्रहण करो उतनी ही जिज्ञासा बढ़ती है और प्रत्येक सत्संग से अतिरिक्त ज्ञान की प्राप्ति होती है। उक्त उद्गार महामंडलेश्वर स्वामी सुरेश मुनि महाराज ने भूपतवाला स्थित स्वतः मुनि उदासीन आश्रम चैरिटेबल ट्रस्ट में ब्रह्मलीन महामंडलेश्वर स्वामी स्वतः प्रकाश महाराज की छत्तीसवीं बरसी के उपलक्ष्य में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के विश्राम अवसर पर श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। स्वामी सुरेश मुनि महाराज ने कहा कि श्रीमद् भागवत कथा भवसागर की बैतरणी है जो व्यक्ति के मन से उसकी मृत्यु का भय मिटाकर उसके कल्याण का मार्ग प्रशस्त करती है। ब्रह्मलीन स्वतः प्रकाश महाराज एक महान संत थे। जिनके मार्ग का अनुसरण कर संत परंपराओं का निर्वहन किया जा रहा है। स्वामी हरिहरानंद एवं स्वामी रवि देव शास्त्री महाराज ने कहा कि संत महापुरुष समाज को ज्ञान की प्रेरणा देकर अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाते हैं। श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण मात्र से ही व्यक्ति के मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं और जो श्रद्धालु भक्त संपूर्ण श्रीमद् भागवत कथा का श्रद्धा पूर्वक श्रवण कर लेता है। उसके तन के साथ साथ मन का भी शुद्धीकरण हो जाता है। क्योंकि श्रीमद् भागवत कथा का ज्ञान व्यक्ति में उत्तम चरित्र का निर्माण करता है। कथा व्यास महामंडलेश्वर स्वामी जगदीश दास महाराज ने कहा कि श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण से व्यक्ति की आत्मा का परमात्मा से साक्षात्कार होता है और वह सत्कर्म के माध्यम से स्वयं को सबल बनाता है। प्रत्येक व्यक्ति को समय निकालकर श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण अवश्य करना चाहिए। कार्यक्रम में पधारे सभी संत महापुरुषों का नीलमणि पाठक ने फूल माला पहनाकर स्वागत किया और मुख्य यजमान जिंदल परिवार एवं मदन गोपाल जिंदल ने शॉल ओढ़ाकर उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर महंत दिनेश दास, महंत सूरज दास, महंत सुतीक्ष्ण मुनि, महंत शिवानंद, मखन लाल, सतपाल, विशाल, गोरा लाल सुरेंद्र कुमार आदि उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक