Skip to main content

डायबिटीज से बचाव के लिए अपनाएं नियंत्रित खान-पान व जीवनशैली- डा.शाह


 हरिद्वार। कमल मिश्रा-‘‘तेजी से बढ़ते डायबिटीज रोगियों की संख्या पर हम जीवनशैली में थोड़ा बदलाव कर काबू पा सकते हैं। डायबिटीज का मुख्य कारण गलत जीवनशैली,असंयमित खानपान, अनियंत्रित नींद, मोटापा,शारीरिक मेहनत न करना, मानसिक तनाव,वसा, चीनी या बहुत ज्यादा कैलरी वाला खानपान है। एक सर्वे के अनुसार इस समय देशभर में लगभग 7 करोड़ से अधिक लोग डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी से ग्रस्त हैं। इस वर्ष की थीम‘‘डायबिटीज केयर तक पहुंच हैःयदि अभी नहीं,तो कब’’यानि हमारी जागरूकता ही डायबिटीज पर नियंत्रण पा सकती है। ’‘विश्व मधुमेह दिवस’ पर डा.संजय शाह, चेयरमैन, रिसर्च सोसायटी फाॅर द स्टडी आॅफ डायबिटीज इन इंडिया ने बताया कि ‘देश में कोरोना के कारण विगत डेढ़ वर्ष में मधुमेह रोगियों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। यह भी देखने में आया है कि जिनको मधुमेह था, उनको ज्यादा गंभीर संक्रमण हुआ। अधिकांश मरीजों में बीमारी के दौरान शुगर की मात्रा भी बहुत बढ़ी। आरएसएसडीआई के आह्वान पर पूरे देशभर में गत माह ‘वन नेशन वन डे वन मिलियन’ अभियान के तहत एक दिन में लगभग दस लाख से भी अधिक लोगों की निःशुल्क शुगर की जांच की गयी, जो एक रिकार्ड भी है।’ डायबिटीज को नजरअंदाज करने पर हार्ट की बीमारी या स्ट्रोक, अंधपन या रेटिनोपैथी, किडनी का खराब होना और पैरों की समस्या तक उत्पन्न हो सकती है। डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्ति हार्ट अटैक का खतरा आम व्यक्ति से पचास गुना ज्यादा बढ़ जाता है। शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से हार्मोनल बदलाव होता है और कोशिशएं क्षतिग्रस्त होती हैं। जिससे खून की नलिकाएं और नसें दोनों प्रभावित होती हैं। इससे धमनी में रुकावट आ सकती है या हार्ट अटैक हो सकता है। डायबिटीज का लंबे समय तक इलाज न करने पर यह आंखों की रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है। रक्त में सामान्य से अधिक शूगर का स्तर शरीर के कई अंगों जैसे गुर्दे, आंखों, हृदय आदि को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है। डायबिटीज के लक्षण जिसमें कि बहुत प्यास लगना, बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस करना, अचानक वजन का कम होना, बहुत भूख लगना,लगातार पेशाब आना, अचानक शरीर पर घाव बनना और इसे ठीक होने में समय लगना, धुंधला दिखाई देना, त्वचा में रूखापन और खुजली आदि प्रमुख हैं। स्वामी रामप्रकाश चैरिटेबल हास्पिटल के   वरि.सलाहकार चिकित्सक संजय शाह ने बताया कि एक हेल्दी लाइफस्टाइल डायबिटीज के खतरे को काफी हद तक कम कर देती है। हेल्दी खाएं, शारीरिक मेहनत करें, वजन कंट्रोल मंे रखें, वाॅकिंग और व्यायाम करें। मधुमेह की रोकथाम का प्रबल व सबसे अच्छा इलाज शारीरिक व्यायाम है। जागरूकता से इस जानलेवा बीमारी पर नियंत्राण पाया जा सकता है। स्वामी रामप्रकाश चैरिटेबल हास्पिटल के निदेशक कर्नल डा.प्रवीण रेड्डी ने बताया कि सोसायटी द्वारा इस समय उत्तराखंड मे दस चिकित्सालयो का संचालन किया जा रह है। जो कि अत्याध्ुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण हैं। पिछले कुछ वर्षों से देखा गया है कि डायबिटीज धीरे-धीरे ग्रामीण क्षेत्रो में पैर पसार रही है। कैंप के माध्यम से लोगों को उनके खान-पान के साथ ही सकारात्मक जीवनशैली के प्रति भी जागरूक करते हैं।


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।