Skip to main content

खनन को लेकर सरकार के आदेश के खिलाफ मातृसदन जायेगा हाईकोर्ट

 हरिद्वार। मातृ सदन के संस्थापक स्वामी शिवानंद सरस्वती ने कहा है कि गंगा में खनन रोकने के लिए मातृ सदन हाई कोर्ट मे याचिका दायर कर रहा है। साथ ही उत्तराखंड सरकार की खनन व क्रशर नीति को लेकर दिसंबर के दूसरे सप्ताह में एक राष्ट्रीय स्तर का सेमीनार आयोजित किया जाएगा। बुधवार को मातृ सदन में पत्रकारों से बातचीत में स्वामी शिवानंद गंगा में खनन को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद पर जमकर बरसे। स्वामी शिवानंद ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के समय गंगा में जमकर खनन किया गया था। आज राजनीति में उनकी हालत सबके सामने है। जिस नेता ने गंगा का दोहन किया वह अधिक दिन तक सत्ता में नहीं टिका। उन्होंने आरोप लगाया कि धामी और यतीश्वरानंद गंगा का जमकर दोहन कर रहे हैं। यही वजह है कि धामी सरकार ने खनन नीति में बदलाव करते हुए पॉकलैंड मशीन से भी खनन की अनुमति दे दी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने से पहले धामी हरिद्वार में यतीश्वरानंद के साथ देखे जाते थे। दोनों नेता पहले से ही खनन प्रेमी रहे हैं। स्वामी शिवानंद ने कहा कि गंगा के अस्तित्व को नष्ट करने में जो लोग शामिल हैं उनका पर्दाफाश करके ही वे दम लेंगे। खनन को लेकर कहीं कोई अध्ययन नहीं किया जाता है। अध्ययन करके जो रिपोर्ट तैयार की जाती है सरकार उसे अनदेखा कर देती है। उन्होंने कहा कि गंगा में जितना अधिक दोहन होगा उतनी आपदा राज्य के उपर आएगी। सरकार खनन को लेकर मनमर्जी के आदेश जारी कर रही है। एक तरह से सरकार ने खनन चोरी करने का लाइसेंस जारी कर दिया है। मातृ सदन इन आदेशों को कोर्ट में चुनौती देने के साथ नेता व अधिकारियों पर कार्रवाई की भी मांग करेगा। स्वामी शिवानंद ने कहा कि गंगा की बर्बादी में हरिद्वार का पंडा, पुरोहित व संत समाज चुप्पी साधे रहता है। इसलिए ये सबसे बड़े दोषी हैं। जितना ये समाज चुप रहेगा उतनी ही इनकी भी बर्बादी तय है। क्योंकि गंगा जब तक बह रही है तभी तक इनका काम चलता रहेगा। गंगा के अस्तित्व को बचाने के लिए इन सभी को मुंह खोलना होगा।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक