Skip to main content

सड़क, बिजली, कृषि, शिक्षा, पर्यटन, तीर्थाटन सभी क्षेत्रों में अग्रणी राज्यों में उत्तराखण्ड शामिल -धन सिंह रावत

 प्रभारी मंत्री राज्य स्थापना समारोह में हुये शामिल,निकाली गई भव्य झाॅकियां


हरिद्वार। प्रदेश के आपदा प्रबंधन,चिकित्सा स्वास्थ्य,उच्च शिक्षा मंत्री सह जनपद प्रभारी मंत्री डाॅ0 धन सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड राज्य आंदोलन में हर क्षेत्र से जुड़े लोगों की कहीं न कहीं भूमिका रही है। इन 21 वर्षों में उत्तराखंड का चैमुखी विकास हुआ है। कहा कि कॉलेजों में पढ़ने वाले बच्चों को अगले बीस दिनों में टैबलेट का वितरण कर देंगे। यह बात डॉ धन सिंह रावत ने उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस पर मंगलवार को ऋषिकुल राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज के प्रेक्षागृह में आयोजित कार्यक्रम में कही। इस दौरान उन्होंने राज्य सरकार की उपलब्धियों पर आधारित सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तिका विकल्प रहित संकल्प, नये इरादे, युवा सरकार, उत्तराखंड विकास के स्वर्णिम पथ पर का विमोचन किया। डा. धन सिंह रावत ने वैक्सीनेशन का उल्लेख करते हुए कहा कि 18 वर्ष से ऊपर आयु वर्ग को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। 15 दिसंबर तक सभी को दूसरी डोज लग जायेगी। कहा कि जब हम सब स्वस्थ रहेंगे, तभी प्रदेश का विकास होगा। इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में डा. धन सिंह रावत ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को नमन करते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में उत्तराखंड राज्य बना था। वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी राज्य को संवारने का कार्य कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने एक नई परिपाटी शुरू की है। जिसके अंतर्गत उत्तराखंड स्थापना दिवस को उत्तराखंड महोत्सव के रूप मनाया जा रहा है। आज हर क्षेत्र सड़क, बिजली, कृषि, शिक्षा, पर्यटन, तीर्थाटन आदि सभी क्षेत्रों में देश के अग्रणी राज्यों में उत्तराखण्ड शामिल है। श्री रावत ने कहा कि आने वाले समय में जब उत्तराखण्ड राज्य 25 वर्ष का होगा तब, उत्तराखण्ड देश के चुनिन्दा राज्यों में शामिल होगा जिनमें प्रति व्यक्ति आय सबसे अधिक होगी, विकास के नये-नये सोपान स्थापित होंगे। इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारम्भ डाॅ0 धन सिंह रावत,जिला अध्यक्ष भाजपा डाॅ0 जयपाल सिंह चैहान, जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय, भाजपा जिला महामंत्री विकास तिवारी आदि ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने कहा कि उत्तराखंड अब युवा अवस्था में आ गया है। आने वाले दस वर्षों में यह देश का अग्रणी राज्य बनेगा। कार्यक्रम के दौरान देव संस्कृति विश्वविद्यालय की छात्राओं ने विभिन्न झलकियों में उत्तराखंड के लोक गीत-हाय तेरी रूमाला, गुलाबी मुखड़ी आदि प्र्रस्तुत किये तथा विश्वविद्यालय के छात्रों ने योग के विभिन्न आसनों को प्रदर्शित किया। कार्यक्रम में वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डा. नरेश चैधरी, चेयरमैन जिला सहकारी बैंक प्रदीप चैधरी समेत भाजपा के स्थानीय नेता व प्रशासनिक समेत विभागीअधिकारी गण शामिल रहे। कार्यक्रम के बाद कैबिनेट मंत्री डा. धन सिंह रावत ऋषिकुल प्रेक्षागृह से एनसीसी की परेड तथा सीआईएसएफ बैंड की मधुर धुनों के बीच देवपुरा चैक पहुंचे। जहां उन्होंने विभिन्न स्कूल, कॉलेज, स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा विभिन्न झांकियों को हरी झंडी दिखाई। झांकियों के माध्यम से उत्तराखंड राज्य स्थापना से अब तक की प्रगति को प्रदर्शित किया गया था जिनका समापन भीमगौड़ा बैरियर पर हुआ।झांकियों में पार्थ सारथी हायर सेकेण्ड्री स्कूल, स्वामी हरिहरानन्द पब्लिक स्कूल,शिवडेल पब्लिक स्कूल, डीपीएस रानीपुर,माता वैष्णों देवी हायर सेकेण्ड्री स्कूल, डीएवी सेन्चुरी स्कूल,चिकित्सा विभाग, कृषि विभाग,फायर ब्रिगेड़, जल संस्थान, उद्यान विभाग, बाल विकास विभाग, आईआईटी रूड़की,गुरूकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, आयुर्वेद विश्वविद्यालय, रेडक्रास, स्वीप हरिद्वार,देव संस्कृति विश्वविद्यालय,पतंजलि सहित विभिन्न स्वयंसेवी संस्थानों एवं विभागों की झांकिया सम्मिलित हुई।


Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।