Skip to main content

विधानसभा चुनाव के मददे्नजर अन्र्तजनपदीय अधिकारियों की बैठक

 

हरिद्वार। कमल मिश्रा- आगामी विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 को शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराये जाने के सम्बन्ध में रविवार को आई0आई0टी0 (एन0सी0निगम) रूड़की सभागार में, जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय,डीआईजी सह वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक,डाॅ0 योगेन्द्र सिंह रावत, जिलाधिकारी सहारनपुर अखिलेश सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, सहारनपुर, आकाश तोमर आदि अधिकारियों की एक आवश्यक बैठक आयोजित हुई। बैठक में चुनाव के दौरान बाॅर्डर क्षेत्र में मदिरा के भण्डारण एवं अवैध वितरण को रोकना, मदिरा की संवेदनशील दुकानों की सूची तैयार करना एवं गहन अनुवीक्षण करना, मदिरा की दुकानों द्वारा स्टाॅक रजिस्टर का रख-रखाव सुनिश्चित किये जाने, मदिरा की बिक्री के लिये टोकनों अथवा कूपनों का प्रयोग करने वाले दुकानों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने आदि के सम्बन्ध में विस्तृत विचार-विमर्श हुआ। बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराये जाने हेतु बाॅर्डर पर चेक पोस्ट तैयार कर सभी वाहनों की गहराई से जांच करने के निर्देश अधिकारियों को दिये गये। इसके अलावा बाॅर्डर जनपदों के एस0डी0एम0 एवं सी0ओ0 को ये भी निर्देश दिये गये कि वे आपस में संवाद बनाये रखें तथा आगामी विधान सभा चुनावों को देखते हुये समय≤ पर बैठकों का भी आयोजन करते रहें। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी, हरिद्वार, पी0एल0 शाह, अपर जिलाधिकारी, सहारनपुर सुश्री अर्चना द्विवेदी, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी हरीश रावत, ए0एस0डी0एम0 रूड़की विजयनाथ शुक्ल, एस0पी0 सिटी सहारनपुर राजेश कुमार, एस0पी0 देहात सहारनपुर अतुल कुमार,एस0पी0 देहात हरिद्वार पी0 डोभाल,सी0ओ0 मंगलौर पंकज गैरोला,सी0ओ0 लक्सर सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक