Skip to main content

‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान-एकात्म बोध’ विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

 मध्य प्रदेश में होगा योग आयोग का गठनः मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश

समस्त दुख दारिद्रों का समाधान हमारे सांस्कृतिक सत्यों में निहित: स्वामी रामदेव

हरिद्वार। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर पतंजलि योगपीठ में ‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान-एकात्म बोध’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें 75 करोड़ सूर्य नमस्कार संकल्प कार्यक्रम की वैबसाइट का लोकार्पण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा किया गया। संगोष्ठि को सम्बोधित करते हुए स्वामी रामदेव ने कहा कि यह गौरव का क्षण है कि आज आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर अमृत महोत्सव में 75 करोड़ सूर्य नमस्कार कार्यक्रम का शुभारम्भ मध्य प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान के द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम अपने आप में एक बहुत बड़ा कीर्तिमान बनेगा। स्वामी रामदेव ने कहा कि देश में योग शिक्षा को आंशिक रूप से लागू करने के लिए टुकड़ों में प्रयास हो रहे थे लेकिन शिवराज सरकार ने योग को व्यापक रूप से शिक्षा का अंग बनाने के लिए बहुत बड़ी कार्य योजना की प्रतिबद्धता यहाँ से अभिव्यक्त की है। वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान और एकात्म मानववाद विषय पर पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने जो दर्शन दिया था उसके संदर्भ में मुख्यमंत्री के संबोधन की बड़ी व्यापकता है। पूरे विश्व में बैक्टिरियल, वायरल, फंगल, कम्यूनिकेबल, नॉन-कम्यूनिकेबल, लाईफ-स्टाइल व जैनेटिक डिजीज से कोहराम मचा है। इन सभी रोगों, सब प्रकार के नशों, हिंसा, झूठ, बेईमानी, कदाचार व समस्त दुख दारिद्र का समाधान हमारे सांस्कृतिक सत्यों में निहित है। इस अवसर पर स्वामी रामदेव ने कहा कि योगधर्म, अध्यात्मधर्म के साथ अपने राजधर्म व राष्ट्रधर्म को निभाने वाले मुख्यमंत्री पर पूरा राष्ट्र गौरव करता है। कार्यक्रम में मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा कि मोदी के नेतृत्व में वैभवशाली, गौरवशाली सम्पन्न भारत का निर्माण हो रहा है। उसके निर्माण के लिए हमारे योद्धा संन्यासीयों ने योग, आयुर्वेद, शिक्षा व अध्यात्म के माध्यम से देश ही नहीं पूरे विश्व में क्रांति की है। आज हमने यहाँ 75 करोड़ सूर्य नमस्कार का वर्चुअली शुभारंभ किया है। मैं स्वयं यह महसूस करता हूँ कि योग की शिक्षा व्यक्ति के मन, बुद्धि व आत्मा का विकास करेगी और ऐसे व्यक्तियों का निर्माण करेगी जो वास्तव में देशभक्त, चरित्रवान, ईमानदार, परोपकारी, अपने लिए नहीं अपितु दूसरों के लिए जीने वाले होंगे। योग की शिक्षा के लिए मध्य प्रदेश में अभियान चलाया जाएगा। हम योग आयोग का गठन करेंगे और पूरी दुनिया को दिशा व मार्गदर्शन देने वाले श्रेष्ठ संत और संन्यासीयों के दिशानिर्देशन में यह सारा कार्य होगा। उन्होने कहा कि योगऋषि स्वामी रामदेव एवं आचार्य बालकृष्ण ने योग, आयुर्वेद, भारतीय संस्कृति, वैदिक शिक्षा को विश्व पटल पर स्थापित करने के लिए अद्भुत कार्य किया है। स्वदेशी से आत्मनिर्भर भारत के नव-निर्माण हेतु, योग व उद्योग के माध्यम से पतंजलि लाखों किसानों एवं युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहा है। आचार्य बाल कृष्ण ने कहा कि पतंजलि से योग के महा-अभियान का सूत्रपात होने जा रहा है कि स्वर्ण जयन्ती वर्ष के रूप में 75 करोड़ सूर्य नमस्कार कार्यक्रम का प्रारंभ पतंजलि से होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार शासन के साथ-साथ  संस्कृति, परम्परा के संरक्षण व संवर्द्धन पर भी एक उदाहरण के रूप में कार्य करती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के स्कूलों में योग शिक्षा लागू कर गाँव-गाँव तक योग के प्रचार-प्रसार की प्रतिबद्धता दोहरायी है। ‘वैश्विक चुनौतियों का सनातन समाधान-एकात्म बोध’ विषय पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि आज जीवन में विभिन्न प्रकार की समस्याएँ हैं। यदि हम सनातन परम्पराओं के आश्रय व जड़ को पकड़कर रखेंगे तो सभी समस्याओं का समाधान वहीं से मिलेगा। इसके पश्चात मुख्यमंत्री ने आचार्य बालकृष्ण के साथ गौ आधारित कृषि पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने कहा कि गौ आधारित कृषि को लेकर पतंजलि योगपीठ में अनुकरणीय कार्य हो रहा है। उन्होंने पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट के माध्यम से कोरोना की प्रथम आयुर्वेदिक औषधि बनाने के लिए आचार्य जी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि आपने भारतीय मनीषा एवं भारतीय चिकित्सा का गौरव बढ़ाया है। कार्यक्रम में पतंजलि विश्वविद्यालय की कुलानुशासिकाडॉ. साध्वी देवप्रिया, बहन ऋतम्भरा, प्रति-कुलपति प्रो. महावीर जी, बहन अंशुल, बहन पारूल, केन्द्रीय प्रभारी डॉ. जयदीप आर्य, भाई राकेश जी, अजय आर्य, स्वामी परमार्थ देव आदि उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक