Skip to main content

नामांकन प्रक्रिया के अन्तिम दिन 61 प्रत्याशियों ने कराया नामांकन दाखिल

जनपद के 11विधानसभा क्षेत्रो के लिए अब तक 129 नामांकन दाखिल

हरिद्वार। विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 के लिये जारी नामांकन प्रक्रिया के अन्तिम दिन शुक्रवार को कुल 61प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल कराया। जबकि अन्तिम तिथि को कुल 05 नामांकन प्रपत्र राजनीतिक दलों,प्रतिनिधियों ने रिटर्निंग आफिसरों से प्राप्त किये। गत दिवस गुरुवार को 42 प्रत्याशियों ने अपने नामांकन पत्र दाखिल किए। अब तक कुल 129 प्रत्याशी अपना नामांकन पत्र जमा करा चुके हैं। विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र 25 हरिद्वार के लिये आज किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा चरण सिंह बसपा (दो सेट), सुश्री सरिता अग्रवाल सपा., सतपाल ब्रहमचारी (दो सेट) कांग्रेस, मो0 आजम निर्दलीय ने अपना-अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 26 बीएचईएल रानीपुर के लिये एक निर्दलीय ने नामांकन प्रपत्र प्राप्त किया। इसके अलावा अजय कुमार निर्दलीय, मो0 मुर्सलीन राष्ट्रीय आवामी हकूक, इरफान अली भारतीय जन जागृति पार्टी, इशांत कुमार सपा, विजय कुमार लोक जन शक्ति पार्टी ने अपने-अपने नामांकन प्रपत्र दाखिल किये। 27 ज्वालापुर के लिये किसी ने नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा सुश्री स्वाति सिंह आम आदमी पार्टी, सनातन सोनकर सपा, रवि बहादुर इण्डियन नेशनल कांग्रेस, शीशपाल सिंह आजाद समाज पार्टी (काशीराम), सुश्री बृजरानी बसपा तथा निर्दलीय (दो सेट), गौतम लोकतांत्रिक जनशक्ति पार्टी ने अपने-अपने नामांकन पत्र दाखिल किये। 28 भगवानपुर के लिए आज किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा अमरीश कुमार आजाद समाज पार्टी, सुबोध राकेश बसपा, सुश्री ममता राकेश कांग्रेस ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 29 झबरेड़ा के लिए किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा सुश्री प्रतिभा निर्दलीय, विरेन्द्र इडियन नेशनल कांग्रेस (चार सेट), सुश्री सुलोचना निर्दलीय, नेमपाल निर्दलीय, भगवत सिंह निर्दलीय, शलभ कुमार राष्ट्रीय लोक दल, सुश्री कोमल रानी सपा ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 30 पिरान कलियर के लिए दो निर्दलीयों ने नामांकन प्रपत्र प्राप्त किये। इसके अलावा अब्दुल राशिद आजाद समाज पार्टी, मुनीश कुमार भाजपा, अब्दुल वहीद आजाद समाज पार्टी, अजय कुमार पीपल्स पार्टी ऑफ डेमोक्रेटिक, कमलेश सैनी निर्दलीय ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 31 रूड़की के लिए आज किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा यशपाल राणा इंडियन नेशनल कांग्रेस, सुश्री श्रेष्ठा राणा निर्दलीय, तनवीर अहमद बसपा, रोहित त्यागी सपा., तेग बल्लभ निर्दलीय, मो0 आजम निर्दली ने अपने-अपने नामांकन प्रपत्र दाखिल किये। 32 खानपुर के लिए किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा दीदार सिंह सपा, मुनीश कुमार राष्ट्रवादी जन लोक पार्टी (सत्य), सुश्री नीलू चैधरी निर्दलीय ने अपने-अपने नामांकन पत्र दाखिल किये। 33 मंगलौर के लिए आज किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा काजी मोनिस आजाद समाज पार्टी, राजवीर सिंह निर्दलीय, अतीक अहमद भारतीय जनजाग्रती पार्टी, सतीश कुमार निर्दलीय, विजेन्द्र सिंह राष्ट्रीय लोक दल, शरद पाण्डेय सपा ने अपना-अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 34 लक्सर के लिये दो निर्दलियों ने नामांकन प्रपत्र प्राप्त किये। इसके अलावा धर्मराज निर्दलीय, अरविंद निर्दलीय, अजय राष्ट्रवादी लोक जन पार्टी (सत्य) मेहर सिंह निर्दलीय, सुश्री रीनू निर्दलीय, संजो लोक जनशक्ति पार्टी, विकास कुमार निर्दलीय ने अपना-अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। 35 हरिद्वार ग्रामीण के लिए आज किसी ने भी नामांकन प्रपत्र प्राप्त नहीं किया। इसके अलावा सुश्री अनुपमा रावत इंडियन नेशनल कांग्रेस, असलम भारतीय एकता पार्टी, शाजिद अली सपा, मो0 यूनुस बसपा, मुबारक निर्दलीय, पंकज कुमार सैनी आजाद समाज पार्टी (काशीराम) सुश्री रेखा देवी राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी (सत्य), विवेक शर्मा आम आदमी पार्टी, जुल्फिकार अंसारी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादउल मुस्लीबीन ने अपने-अपने नामांकन पत्र दाखिल किये।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक