Skip to main content

श्रीमद्भागवत कथा के श्रवण से होती है अंतःकरण की शुद्धि-महामनीषी निरंजन स्वामी


 हरिद्वार। महामनीषी निरंजन स्वामी महाराज ने कहा है कि श्रीमद्भागवत कथा सुनने वालों का भगवान हमेशा कल्याण करते हैं। इसलिए जो भगवान को प्रिय हो वही करना चाहिए और प्रभु का मार्ग अपनाकर उनसे मिलने का उद्देश्य बना लेना चाहिए। भारत माता पुरम स्थित एकादश रूद्र पाठ आश्रम में श्री हनुमान सत्संग धाम श्री हरि अवतार दर्शन पीठ कृष्णा विहार ग्वालियर मध्य प्रदेश के तत्वावधान में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के छठे दिन श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए महामनीषी निरंजन स्वामी महाराज ने कहा कि इस संसार में जन्म मरण से मुक्ति भगवान की कथा ही दिला सकती है। भगवान की कथा विचार वैराग्य ज्ञान और हरि से मिलने का मार्ग बता देती है। उन्होंने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा वह ज्ञान का भंडार है। जिसके श्रवण मात्र से व्यक्ति के तन के साथ-साथ अंतःकरण की शुद्धि भी हो जाती है और वह सत्कर्म का मार्ग अपनाकर अपने बैकुंठ का मार्ग प्रशस्त करता है। उन्होंने कहा कि भक्त और भगवान की यह कथा सभी के लिए सर्वदा हितकारी है। योगी सत्यव्रतानंद महाराज ने कहा कि राजा परीक्षित के कारण भागवत कथा पृथ्वी के लोगों को सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। समाज द्वारा बनाए गए नियम गलत हो सकते हैं। किंतु भगवान के नियम ना तो गलत हो सकते हैं और ना ही बदले जा सकते है।ं इसलिए मोह माया को छोड़कर प्रभु भक्ति में लीन रहते हुए सतकर्मों को करना ही इस कथा का मूल उद्देश्य है। जो व्यक्ति कथा में निहित ज्ञान को अपने जीवन में उतार कर उसे अपने व्यवहार में शामिल कर लेता है। उसका जीवन भवसागर से पार हो जाता है। कथा व्यास महामंडलेश्वर राजगुरु स्वामी संतोषानंद महाराज ने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा को सुनना एवं सुनाना दोनों ही मोक्षदायक है। यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को कथा सुनने के लिए प्रेरित करता है तो उस व्यक्ति को भी इसका पुण्य फल प्राप्त होता है। कथा सुनने का फल सभी पुण्यों, तपस्या एवं सभी तीर्थों की यात्रा के फल से भी कहीं बढ़कर है और देवभूमि उत्तराखंड की पावन धरती पर गंगा तट के सानिध्य में कथा श्रवण का महत्व सहस्त्र गुना बढ़ जाता है। श्रीमद्भागवत के श्रवण से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है और इसे सुनने से आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति स्वयं हो जाती है और समस्त दुखों का शमन हो जाता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को कथा की महत्वता को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि भागवत कथा के आयोजन के साथ साथ विष्णु महायज्ञ भी समस्त विश्व के लिए कल्याणकारी है। संपूर्ण विश्व में खुशहाली व्याप्त रहे और प्रत्येक प्राणी हर्षोल्लास के साथ जीवन व्यतीत करें। यही धार्मिक अनुष्ठानों का महत्व है। इस अवसर पर आरडी मणि तिवारी, सुरेन्द्र अग्रवाल महाप्रबंधक फ्रैंको इन्डस्ट्रीज, डा.संजय गोयल, ओम प्रकाश शर्मा, प्रेम शंकर शर्मा, दिलीप सिंह भदौरिया एडवोकेट, राजेश सिंह, सुरेन्द्र शर्मा, जगद्गुरु आनंदेश्वर, कथा के यजमान हरिमोहन शर्मा, मुख्य यजमान यशोदा शर्मा, राधेश्याम शर्मा आदि श्रद्धालुजन उपस्थित रहे। 


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

स्वामी नारायण आश्रम में गुरु पूर्णिमा पर्व की तैयारियां शुरू

  हरिद्वार। सिदाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के तत्वावधान में भूपतवाला स्थित स्वामी नारायण आश्रम में 12 एवं 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव का विशाल आयोजन किया जाएगा। परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद (डा.नारायण दत्त श्रीमाली) व माता भगवती की दिव्य छत्र-छाया एवं पूज्य गुरुदेव नंदकिशोर श्रीमाली के सानिध्य में आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय महोत्सव की तैयारियों को लेकर मंगलवार को आश्रम में निखिल मंत्र विज्ञान के संयोजक मनोज भारद्वाज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गुरू पूर्णिमा महोत्सव की तैयारियों पर चर्चा की गयी। बैठक में कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय कुमार झा,गोपाल सैनी, डा.एम.के.तिवारी,शैलेन्द्र शैली,राकेश गुप्ता,नागेन्द्र सिंह,अमर उपाध्याय,लोकेश,बलवान सैनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हुए। मनोज भारद्वाज ने बताया कि गुरु पूर्णिमा शिष्य और गुरु के मिलन का समारोह है। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में अपना मनोभाव समर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय समारोह में देश-विदेश से हजारों की संख्या में आने वाले निखिल शिष्यों का समागम होगा। महोत्सव को